अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

औरैया में यमुना लाल निशान से पांच मीटर ऊपर


औरैया:- उत्तर प्रदेश के औरैया जिले में यमुना नदी खतरे के निशान से पांच मीटर ऊपर बह रही है। बाढ़ की जद में आये 12 से अधिक गांवों में राहत एवं बचाव कार्य जारी है वहीं औरैया जालौन राजमार्ग पर बाढ़ का पानी आने से जालौन जिले से संपर्क टूट गया है। आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि आज सुबह नदी का जलस्तर 118.34 मीटर तक पहुंच गया है जो खतरे के निशान 113 मीटर से पांच मीटर ज्यादा है। यमुना के तटवर्ती एक दर्जन से भी अधिक गांवों के बाढ़ की चपेट में आ जाने व औरैया-जालौन हाइवे के ऊपर से पानी बहने के कारण औरैया का जालौन से सम्पर्क टूट गया है। इसके अलावा बबाइन गांव में बना पेंटून पुल पाने के तेज बहाव के चलते बह कर जुहीखा के पक्के पुल से जा टकराया जिससे उसकी रेलिंग क्षतिग्रस्त हो गई है। पिछले कुछ दिनों से लगातार हो रही बारिश और राजस्थान के कोटा बैराज से चंबल में पानी छोड़े जाने के बाद यमुना नदी में आयी बाढ़ से प्रभावित गांवों में जिला प्रशासन व एसडीआरएफ की टीम बचाव व राहत कार्य चला रही है। स्टीमर व नावों के सहयोग से बाढ़ में फंसे परिवारों को बाहर निकाल कर उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है। बीती शाम जिलाधिकारी सुनील कुमार वर्मा व पुलिस अधीक्षक अपर्णा गौतम ने अन्य अधिकारियों के साथ नाव से अस्ता और सिकरोड़ी गांवों का निरीक्षण कर घरों की छतों पर बैठे लोगों से नाव के सहारे सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए कहा था। जिले में यमुना के तटवर्ती गांव मई, अस्ता, सिकरोड़ी, असेवा, बबाइन, असेवटा, जुहीखा, सिंहौली, गूंज, ततारपुर, रमपुरा, अनरूद्धनगर, बीजलपुर, सड़रापुर, मिश्रपुर मानिकचंद्र, गोहानी कला, फरिहा व गोहानी खुर्द आदि गांव बाढ़ के पानी से घिर गये हैं। बबाइन में बना 52 पीपों वाला पेंटून पुल बीती रात्रि बहकर जगम्मनपुर से भीखेपुर को जोड़ने वाले जूहीखा पुल से तेज आवाज के साथ जा टकरा गया। औरैया-जालौन हाइवे पर पानी आने से सभी वाहनों के आवागमन पर रोक लगा दी गई है और जगह-जगह भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। आज सुबह यमुना का पानी माँ मंगलाकाली व देवकली मंदिर के करीब तक पहुंच गया है।

%d bloggers like this: