अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

300 संकुल संगठनों में लैंगिक एकीकरण को बढ़ावा देने के लिए कार्यशाला


रांची:- आज राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत झारखण्ड राज्य के 24 जिलों के 105 प्रखंडों के 300 संकुल संगठनों में जेंडर इंटीग्रेशन लैंगिक एकीकरण की प्रक्रिया को बढ़ावा देने के लिए राज्य स्तर पर कार्यशाला आयोजित की गई।
झारखंड लाइवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी एवं स्वयंसेवी संस्था प्रदान के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम में जेएसएलपीएस के राज्य एवं जिला स्तर के शीर्ष पदाधिकारियों एवं विभिन्न सरकारी विभागों के प्रतिनिधियों, केंद्रीय मनोचिकित्सा संस्थान रांची, आली, विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि तथा प्रदान के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। कार्यक्रम में सिमडेगा व गिरिडीह जिले में पायलट के रूप में किए गए लैंगिक एकीकरण के कार्यों को शेष जिलों के 300 संकुल संगठनों तक बढ़ाने के तरीके एवं प्रक्रियाओं पर मंथन
किया गया।
जेएसएलपीएस के अलग-अलग वर्टिकल्स में कैसे लैंगिक एकीकरण किया जा सके इसके ऊपर राष्ट्रीय मिशन प्रबंधन इकाई से आई अधिकारी उषा रानी ने इस बात पर जोर दिया कि जेएसएलपीएस के स्तर पर मानव संसाधन उनकी नीतियों, च्व्ैभ् कार्यस्थल पर महिलाओं के प्रति होने वाले यौन उत्पीड़न एवं शिकायत निवारण प्रक्रियाओं पर जेंडर एकीकरण कैसे किया जा सकता है स सामुदायिक स्तर पर विभिन्न उप समितियों को सशक्त कर महिलाओं की शिकायतों का निवारण कैसे किया जाए, इसपर जोर देने की आवश्यकता है।
आली संस्थान की रेशमा जी ने कहा कि हमें नारीवादी चश्मा अपनाने की जरूरत है तथा महिला मुद्दों से संबंधित सेवाओं को कैसे दुरुस्त किया जा सकता है इस पर एकजुट होकर रणनीति बनाने की आवश्यकता है स राष्ट्रीय मिशन प्रबंधन इकाई से आई सीमा भास्करण ने कहा की एक ओ र झारखंड में महिला सशक्तिकरण की ओर पुख्ता कदम उठाए गए हैं ,परंतु कुपोषण महिलाओं महिलाओं के निर्णय लेने में भागीदारी मालिकाना हक दिलाना एवं महिलाओं पर हो रहे हिंसा पर और भी ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता हैस विभागीय सहयोग एवं अभिसरण की आवश्यकता महसूस की जा रही है, प्रशासनिक व्यवस्था को महिलाओं के प्रति और अधिक संवेदनशील बनाने की आवश्यकता है।
जेएसएलपीएस के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी विष्णु परिदा ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा की यह पहल राज्य भर में महिलाओं की सामाजिक स्थिति को मजबूत बनाने में मदद करेगी, जेएसएलपीएस एवं प्रदान संस्था के तकनीकी सहयोग महिलाओं के विकास में प्रमुख भूमिका निभाएंगे स इस अवसर पर ळत्व्ॅ चपसवज के दरमियान विकसित किये गए 3 प्रशिक्षण पुस्तिकाओं का भी विमोचन किया गया । इस अवसर पर पूर्णिमा मुखर्जी, प्रदान के मधु खेतान, सर्बानी बोस, मौसुमी सरकार , मनोज, इंद्रानील सहित सुदूरवर्ती गाँव से आयी महिलाएं शामिल हुईं

%d bloggers like this: