April 15, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

महिला विधायकों ने संसद और विधानमंडल में महिलाओं के लिए आरक्षण की मांग की

पटना 08 मार्च:- अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर बिहार विधानसभा में महिला विधायकों ने संसद, विधान मंडल, राजनीतिक दलों और सरकार में महिलाओं के लिए आरक्षण की मांग की । विधानसभा में भोजनावकाश से पूर्व भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की भागीरथी देवी, गायत्री देवी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) की शालिनी मिश्रा राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की मंजू अग्रवाल, संगीता कुमारी और कांग्रेस की प्रतिमा कुमारी ने पंचायती राज और पुलिस की नौकरी में महिलाओं को आरक्षण देने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का आभार व्यक्त किया और संसद, विधान मंडल, राजनीतिक दलों और सरकार में भी महिलाओं के लिए आरक्षण की मांग की । श्रीमती भागीरथी देवी और गायत्री देवी ने कहा कि पंचायती राज में 50 प्रतिशत आरक्षण देने वाला बिहार देश का पहला राज्य है।इसी तरह पुलिस सेवा में भी महिलाओं के लिए 35 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था है । इसके लिए मुख्यमंत्री बधाई के पात्र हैं। उन्होंने कहा कि इसी तरह महिलाओं को संसद और विधान मंडल में भी 33 प्रतिशत आरक्षण मिलना चाहिए । जदयू की शालिनी मिश्रा ने कहा कि वैसे तो देश 15 अगस्त 1947 को आजाद हुआ था लेकिन बिहार में महिलाओं को असली आजादी वर्ष 2005 में मिली जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में सरकार बनी । मुख्यमंत्री ने महिलाओं को पंचायती राज व्यवस्था में 50 प्रतिशत, पुलिस सेवा में 35 प्रतिशत आरक्षण दिया और इसके साथ ही बच्चियों के लिए पोशाक तथा साइकिल योजना शुरू की । आज बिहार की बच्चियां देश की सीमा की रक्षा भी कर रही है। उन्होंने कहा कि विधायिका में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान करने के लिए बिहार सरकार की ओर से केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा जाना चाहिए ।
कांग्रेस की प्रतिमा कुमारी ने भी मुख्यमंत्री की जमकर प्रशंसा करते हुए उन्हें एक लोकप्रिय नेता बताया और कहा कि श्री नीतीश कुमार ने पंचायत में महिलाओं के लिए आरक्षण की व्यवस्था की और जाति के हिसाब से महिलाओं को भागीदारी भी दी । जिसके कारण वह घर से बाहर निकली । आज इसी वजह से महिलाओं को पूरा मान सम्मान मिल रहा है और उनके खिलाफ अत्याचार और उत्पीड़न की घटना भी कम हुई है । उन्होंने कहा कि वह चाहती हैं कि विधानसभा और विधान परिषद में भी महिलाओं को बराबरी का हक मिले । इसके लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहल करें तो बिहार और देश में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में उनका नाम होगा ।
राजद की संगीता कुमारी और मंजू वर्मा ने भी विधायिका में महिलाओं के लिए आरक्षण की मांग करते हुए कहा कि इसके लिए बिहार से पहल होनी चाहिए । उन्होंने महिलाओं और बच्चियों के साथ बलात्कार की घटना पर चिंता जताते हुए इस पर रोक लगाने के लिए सरकार से कठोर कदम उठाने की मांग की । राजद की रेखा देवी ने कहा कि उनकी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने भी महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए काफी काम किया है।उन्होंने पत्थर तोड़ने वाली को विधायक और सांसद बनाया है । उन्होंने कहा कि वह भी चाहती हैं कि महिलाओं के लिए संसद और विधान मंडल में आरक्षण की व्यवस्था हो ।
इससे पूर्व सभा की कार्यवाही शुरू होते ही सभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर महिला विधायकों को बधाई देते हुए कहा कि हमारे समाज की अवधारणा है कि जहां नारी की पूजा होती है वहीं देवता का वास होता है । हमारे यहां नारी हमेशा पूजनीय रही है। महिलाएं हर स्वरूप में हमारी प्रेरणा है । उनके बिना जीवन की कल्पना अधूरी है । वह किसी भी सूरत में पुरुषों से कम नहीं है । उनकी योग्यता और त्याग के लिए समाज सदैव उनका ऋणी है और रहेगा । उन्होंने कहा कि समाज में लिंग भेद का कोई स्थान नहीं होना चाहिए। शास्त्रों से शस्त्र तक खेत खलिहान से लेकर असीमित आसमान तक वह अपनी बुलंदियों का परचम लहरा रही हैं ।
संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा कि महिला सशक्तिकरण में बिहार की भूमिका अग्रणी रही है । महिलाओं को अधिकार देने में राज्य की विधायिका ने मिसाल कायम किया है । दलगत राजनीति से ऊपर उठकर सभी राजनीतिक दलों ने इस कार्य में सहयोग किया है । बिहार ने इस दिशा में जो काम किया है उसका पूरा देश अनुकरण करता है । उन्होंने कहा कि यदि आसन और सभी सदस्यों की सहमति हो तो आज सभी प्रश्नकाल, शून्य काल और अन्य निर्धारित कार्य में महिलाओं को प्रमुखता दी जाए । अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर हम सभी को संवेदनशीलता दिखाने का अवसर मिला है। महिलाओं को सशक्त बनाने और उन्हें सम्मान देने के लिए जो प्रयास हुआ है उसे आज फिर से इसके जरिए दोहराया जाएगा ।
राजद के भाई वीरेंद्र ने भी इसका समर्थन करते हुए अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर महिला विधायकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि महिलाओं को मान सम्मान देना और उनके सशक्तिकरण के लिए प्रयास करना हम सबका दायित्व है ।
इसके बाद प्रश्नकाल और शून्यकाल में महिला सदस्यों को प्राथमिकता दी गई । महिला विधायकों के जितने भी तारांकित प्रश्न थे उन सभी के उत्तर संबंधित विभाग के मंत्रियों ने दिए । इसके बाद ही अन्य सदस्यों के प्रश्नों के उत्तर दिए गए । इसी तरह शून्य काल में भाजपा की भागीरथी देवी और राजद की रेखा देवी ने लोक हित से जुड़े मुद्दों को उठाया , इसके बाद ही अन्य सदस्यों को मौका मिला ।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: