अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

लोकसभा में 7 मिनट के भीतर दो
विधेयक पारित, कार्यवाही स्थगित


नयी दिल्ली:- लोकसभा में शुक्रवार को विपक्ष के हंगामे के बीच सात मिनट के भीतर दो महत्वपूर्ण विधेयक पारित करा दिये गये और उसके बाद कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी गयी। सदन ने विपक्ष के हंगामे के बीच ही कराधान कानून (संशोधन) विधेयक 2021 और केंद्रीय विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक 2021 पारित कर दिया। एक बार के स्थगन के बाद सदन की कार्यवाही दोपहर 12 बजे जैसे ही शुरू हुई, पीठासीन अधिकारी राजेंद्र अग्रवाल ने कहा कि विभिन्न दलों ने स्थगन प्रस्ताव दिये हैं, जिन्हें अध्यक्ष ने नकार दिया है। इसी बीच सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कुछ बोलने की अनुमति मांगी। उन्होंने कहा कि सदन में तीसरे सप्ताह भी गतिरोध खत्म नहीं हुआ है, लेकिन सरकार ने इस गतिरोध को खत्म करने के लिए विपक्ष से बातचीत तक नहीं की। इस पर सत्ता पक्ष से यह कहा गया कि सरकार हर मुद्दे पर चर्चा कराने के लिए तैयार है, लेकिन कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी दल खुद इससे भाग रहे हैं। इस बीच विपक्ष के सदस्य अध्यक्ष के आसन के समीप हंगामा करते हुए पहुंच चुके थे। पीठासीन अधिकारी ने हंगामे के बीच ही आवश्यक दस्तावेज सदन पटल पर रखवाये। दस्तावेज रखवाने के बाद पीठासीन अधिकारी ने विधायी कार्य की घोषणा की और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कराधान विधि संशोधन विधेयक 2021 पर चर्चा करने और उसे पारित करने का प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्‍य भारतीय परिसम्‍पत्तियों के परोक्ष हस्‍तां‍तरण पर कर लगाने के लिए 2012 के पूर्व प्रभा‍वी कानून के तहत की गई कर मांगों को वापस लेना है। वित्त मंत्री ने सदन में कहा कि विधेयक में भारतीय कर अधिनियम-1961 और वित्‍त अधिनियम-2012 में संशोधन का प्रावधान है। विधेयक में उस कर मांग को वापस लेने का प्रावधान है, जो 28 मई 2012 से पहले भारतीय परिसम्‍‍पत्तियों के परोक्ष हस्‍तांतरण पर की गईं थी। विधेयक में इन मामलों में अदा की गई राशि बिना ब्‍याज के वापस करने का भी प्रावधान है। इस विधेयक के पारित होने से ब्रिटिश कंपनी केरेन एनर्जी और वोडाफोन ग्रुप के बीच लम्‍बे समय से चले आ रहे कर विवादों का समाधान हो सकेगा। हंगामे के बीच ही यह विधेयक बिना चर्चा के पारित हो गया। उसके बाद शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने तुरंत केंद्रीय विश्वविद्यालय संशोधन विधेयक 2021 को चर्चा और पारित करने के लिए सदन के समक्ष प्रस्ताव रखा, जिस पर सदन की मोहर लग गयी। इस प्रकार विपक्ष के हंगामे के बीच सात मिनट के भीतर दो विधेयक पारित हुए।
केंद्रीय विश्वविद्यालय (संशोधन) विधेयक-2021 लद्दाख में केंद्रीय विश्वविद्यालय स्थापित किये जाने से संबंधित है। दोनों विधेयक पारित होने के बाद पीठासीन अधिकारी ने सदन की कार्यवाही सोमवार के लिए स्थगित कर दी।

%d bloggers like this: