अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

भारत प्रगति के साथ विश्व कल्याण और परोपकार के मार्ग को भी अपनाता है-राज्यपाल


रांची:- राज्यपाल रमेश बैस ने कहा कि देश प्रगति की दिशा में तीव्र गति से अग्रसर होने के साथ विश्वकल्याण व परोपकार के मार्ग को भी अपनाता है। उन्होंने कहा कि देश ऋषि-मुनियों का देश रहा है जिन्होंने विश्व को मानव-कल्याण की प्रेरणा दी। राज्यपाल आज रांची में गुरुनानक हायर सेकेंडरी पब्लिक स्कूल में सेवा भारती द्वारा आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
राज्यपाल ने कहा कि सेवा भारती संस्था अपने नाम के अनुरूप सामाजिक दायित्वों का निर्वहन करने के प्रति सचेष्ट है। इनके द्वारा सेवा सुरभि पत्रिका का प्रकाशन किया जाता है जिसमें समाजसेवा, शिक्षा, पर्यावरण, जन-जागृति जैसे कार्यों का वर्णन होता है। आज सेवा सुरभि का एक नया विशेषांक हम सभी के समक्ष हैं जो “स्वतंत्र भारत के 75 साल”” पर केंद्रित है। इसमें आजादी के पहले और आजादी के बाद देश के कालखंड का विशेष उल्लेख है जो देश की वर्तमान पीढ़ी, खासकर युवाओं को देश की वर्तमान स्थिति और भावी संभावनाओं पर मनन करने के साथ-साथ आजादी के पहले के गौरवशाली इतिहास की जानकारी देता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत तेजी से विकास की नई ऊंचाइयों की ओर अग्रसर हो रहा है। वर्तमान कालखंड में हम एक सशक्त भारत की तस्वीर बनते देख सकते हैं और विश्वगुरु बनने की दिशा में अग्रसर हैं। राष्ट्र के हर व्यक्ति के सामाजिक एवं आर्थिक रूप से सशक्तीकरण हेतु हम सभी को सामाजिक सहभागिता के तहत कार्य करना होगा। देश की आजादी के अमृत वर्ष में हमें समाज के लोगों के अंदर छिपी प्रतिभा, हुनर और निपुणता को प्रखर करना होगा। इस कार्य में सरकारी संस्थाओं के साथ एन.जी.ओ. व स्वयं सहायता समूहों की अहम भूमिका है। समाजहित में सभी को अग्रणी भूमिका का निर्वहन करना चाहिए।
राज्यपाल ने कहा कि बहुत से छात्र मेधावी होने के बावजूद आर्थिक समस्या के कारण उचित शिक्षा ग्रहण नहीं कर पाते हैं। गरीबी की समस्या के कारण लड़कियों की शादी नहीं हो पाती है। ऐसे लोगों की सेवा करना नितांत आवश्यक है। पूज्य गाँधी जी का मानना था कि नर सेवा ही नारायण सेवा है।

%d bloggers like this: