अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

जेपी और लोहिया के विचार-दर्शन पाठ्यक्रम में फिर होंगे शामिल : विजय


पटना:- बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने आज बताया कि लोकनायक जयप्रकाश नारायण (जेपी) और डॉ. राममनोहर लोहिया के विचार एवं दर्शन को विहित प्रक्रिया से पाठ्यक्रम में फिर से शामिल किया जाएगा।
श्री चौधरी ने यहां बताया कि सरकार की पहल पर गुरुवार को राज्यपाल एवं कुलाधिपति फागू चौहान की अध्यक्षता में बिहार के सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों की आवश्यक बैठक हुई। इसमें विभिन्न पाठ्यक्रमों में हुए बदलाव के साथ विश्वविद्यालय प्रशासन से जुड़े अन्य मामलों पर भी चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों लोकनायक जयप्रकाश नारायण एवं डाॅ. राम मनोहर लोहिया के विचारों को राजनीति विज्ञान के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम से बाहर किए जाने पर सरकार ने आपत्ति जताई थी।
मंत्री ने ने कुलाधिपति को धन्यवाद देते हुए कहा कि इस उच्चस्तरीय बैठक में लिए गए निर्णयानुसार जेपी एवं लोहिया के विचारों को विहित प्रक्रिया से पाठ्यक्रम में फिर से शामिल किया जाएगा। साथ ही अन्य पाठ्यक्रमों को भी उपयोगी एवं प्रासंगिक बनाने के लिए नियामानुसार राजभवन एवं राज्य उच्चतर शिक्षा पर्षद की सहमति से विभिन्न विश्वविद्यालयों द्वारा लागू किया जाएगा। श्री चौधरी ने बताया कि इसके अलावा, विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों द्वारा नैक ग्रेडिंग के लिए मुस्तैदी से ससमय प्रयास करने एवं प्रधानाचार्य की नियुक्ति मामले पर भी सार्थक एवं निर्णायक चर्चा हुई। राज्यपाल ने इन मुद्दों पर समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। उन्होंने इस बैठक के नतीजों को बिहार में उच्च शिक्षा में सुधार एवं जनभावना के अनुरूप बताया। बैठक में विभिन्न कुलपतियों के अलावा शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव संजय कुमार एवं सचिव असंगबा चुवा आओ ने भी हिस्सा लिया।
उल्लेखनीय है कि जयप्रकाश नारायण विश्वविद्यालय, छपरा के राजनीति विज्ञान के स्नातकोत्तर (पीजी) पाठ्यक्रम से लोकनायक जयप्रकाश नारायण एवं डॉ. राम मनोहर लोहिया के राजनीतिक विचार एवं दर्शन निकाले जाने को सरकार एवं शिक्षा विभाग ने काफी गंभीरता से लिया था। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी इस पर घोर आश्चर्य एवं क्षोभ व्यक्त किया था एवं तत्काल इसके निराकरण का निर्देश भी दिया था।
वहीं, कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव एवं वर्तमान सांसद दिग्विजय सिंह ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को आड़े हाथों लेते हुए कहा था कि जेपी विश्वविद्यालय, छपरा में लोकनायक जयप्रकाश नारायण पर आधारित विषय को भी जेपी के चेलों ने बन्द कर दिया। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा था कि बिहार के मुख्यमंत्री पूरी तरीके से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के हाथों की कठपुतली बनकर काम कर रहें हैं।

%d bloggers like this: