April 17, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

विधानसभा की समिति कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम में एजेंसी को किये गये अधिक भुगतान की करेगी जांच

पटना:- बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने आज कहा कि राज्य में सात निश्चय योजना के तहत कौशल विकास प्रशक्षिण कार्यक्रम के लिए एजेंसी को अधिक भुगतान करने के मामले की जांच सभा की समिति से कराई जाएगी।
श्री सिन्हा ने विधानसभा में शुक्रवार को कुशल युवा कार्यक्रम के तहत युवाओं के कौशल विकास प्रशिक्षण के लिए महाराष्ट्र की एक एजेंसी को अधिक भुगतान किये जाने के संबंध में कुमार शैलेंद्र, अरुण शंकर प्रसाद एवं अन्य की ध्यानाकर्षण सूचना पर जवाब के दौरान सदस्यों की मांग को ध्यान में रखते हुए इस मामले की सभा की समिति से जांच कराये जाने की घोषणा की।
श्रम संसाधन मंत्री जीवेश मिश्रा ने ध्यानाकर्षण पर जवाब में स्वीकार किया कि कौशल विकास से संबंधित एक पोर्टल बनाने के लिए एजेंसी को 24 लाख रुपये का भुगतान किया गया है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2017 में पोर्टल को लॉन्च करना था लेकिन एजेंसी ने इसे वर्ष 2020 में तैयार किया। उन्होंने कहा कि एजेंसी को अंतिम भुगतान करने के समय राशि को समायोजित कर लिया जाएगा और उसके खिलाफ विधि सम्मत कार्रवाई भी शुरू की जाएगी।
इस पर कुमार शैलेंद्र ने पूरक प्रश्न के माध्यम से कहा कि इस योजना के तहत एजेंसी का चयन नॉलेज पार्टनर के रूप में किया गया था और उसे कुशल युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए पोर्टल का विकास करना था। लेकिन, कौशल विकास प्रशिक्षण प्राप्त युवाओं को रोजगार नहीं मिल सका। उन्होंने सरकार से इससे संबंधित व्यक्ति की जिम्मेवारी तय करने की मांग की और आरोप लगाया कि एजेंसी को 50 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है।
श्री अरुण शंकर प्रसाद ने कहा कि एजेंसी को पांच वर्ष में एक करोड़ युवाओं को प्रशिक्षित करना है लेकिन इस योजना के तहत चयनित महाराष्ट्र की एजेंसी को उसके ही राज्य में काली सूची में रखा गया है। उन्होंने कहा कि एजेंसी ने फर्जी दस्तावेज पेश कर भुगतान प्राप्त किया है। सदन के सदस्यों ने इस मामले की सभा की एक समिति से जांच कराये जाने की मांग की, जिसे सभाध्यक्ष ने स्वीकार कर लिया।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: