January 22, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

पिछले साल वाहनों की बिक्री 24 प्रतिशत घटी

नयी दिल्ली:- कोविड-19 महामारी की मार वाहन उद्योग पर पिछले साल साफ देखी गई जिससे वाहनों की घरेलू बिक्री में 24 फीसदी से अधिक की गिरावट रही। वाहन निमार्ता कंपनियों के संगठन सियाम के आज यहाँ जारी आँकड़ों में बताया गया है कि पिछले साल जनवरी से दिसंबर तक देश में 1,74,67,456 वाहन बिके जो एक साल पहले के मुकाबले 24.29 प्रतिशत कम है। वर्ष 2019 में यह आँकड़ा 2,30,72,564 रहा था। साल के दौरान यात्री वाहनों की बिक्री 17.85 प्रतिशत, दुपहिया की 23.15 प्रतिशत, वाणिज्यिक वाहनों की 40.90 प्रतिशत और तिपहिया की 62.12 प्रतिशत घट गई। मार्च, अप्रैल और मई में पूर्णबंदी के दौरान वाहनों का उत्पादन तथा बिक्री लगभग पूरी तरह से बंद रही। अब उद्योग का पहिया हालांकि पटरी पर आ चुका है और यात्री वाहनों तथा दुपहिया वाहनों की बिक्री में लगातार वृद्धि बनी हुई है। दिसंबर में वाहनों की कुल बिक्री 5.76 प्रतिशत बढ़ी जिसमें घरेलू वाहनों में 13.59 फीसदी और दुपहिया में 7.42 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई। सियाम के अध्यक्ष केनिची आयुकावा ने कहा कि कोविड-19 महामारी के मद्देनजर इस समय बाजार की स्थिति तेजी से बदल रही है और अनिश्चितता से भरी हुई है। सेमीकंडक्टरों, इस्पात और शिपिंग के लिए कंटेनरों की कमी है। इस्पात, लॉजिस्टिक्स तथा अन्य कच्चे माल के दाम बढ़ने से भी कंपनियों की आर्थिक स्थिति प्रभावित हो रही है। उद्योग बिक्री बनाये रखने के लिए कड़ी मशक्कत कर रहा है। आँकड़ों के अनुसार, पिछले साल यात्री वाहनों की बिक्री 17.85 प्रतिशत घटकर 24,33,464 इकाई रही जिसमें कारें, उपयोगी वाहन और वैन आते हैं। इनमें कारों की बिक्री 21.30 फीसदी गिरकर 14,32,304 इकाई, उपयोगी वाहनों की 8.89 प्रतिशत घटकर 8,97,406 इकाई और वैनों की 34.04 प्रतिशत कम होकर 1,03,754 इकाई रह गई। दुपहिया की बिक्री 23.15 प्रतिशत घटकर 1,42,68,430 इकाई पर आ गई। मोटरसाइकिलों की बिक्री में 21.26 प्रतिशत और स्कूटरों में 28.01 प्रतिशत की गिरावट देखी गई और पिछले साल देश में कुल 94,58,577 मोटरसाइकिल तथा 42,05,194 स्कूटर बिके। मोपेडों की बिक्री 15.51 फीसदी घटकर 6,03,242 इकाई रही। गत वर्ष वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री 40.90 प्रतिशत घटकर 5,05,189 इकाई रह गई। वर्ष 2019 में देश में 8,54,743 यात्री वाहन बिके थे। मध्यम और भारी यात्री वाहनों की बिक्री 55.34 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1,28,758 इकाई और हल्के यात्री वाहनों की 33.54 प्रतिशत कम होकर 3,76,431 इकाई पर आ गई।
पिछले साल देश में 2,60,412 तिपहिया वाहन बिके। इस प्रकार इनकी बिक्री 62.12 प्रतिशत घट गई।
इस दौरान वाहनों का निर्यात 18.87 प्रतिशत की गिरावट के साथ 38,65,138 इकाई रहा। यात्री वाहनों के निर्यात में 39.38 प्रतिशत, दुपहिया वाहनों में 12.92 प्रतिशत, वाणिज्यिक वाहनों में 36.80 प्रतिशत और तिपहिया के निर्यात में 27.71 प्रतिशत की कमी आई।
बीएसई में पूंजीगत वस्तु समूह का सूचकांक सबसे अधिक 1.67 प्रतिशत चढ़ा। तेल एवं गैस समूह 1.38 प्रतिशत, ऊर्जा 1.13 प्रतिशत और स्वास्थ्य समूह 1.07 प्रतिशत की बढ़त में रहा। एफएमसीजी, बिजली, इंडस्ट्रियल्स, आॅटो, दूरसंचार और यूटिलिटीज समूहों के सूचकांक भी हरे निशान में बंद हुये।
धातु समूह में सबसे अधिक 1.24 प्रतिशत की गिरावट रही। बैंकिंग, बुनियादी वस्तु, सीडीजीएंडएस, वित्त, आईटी, टेक और टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद समूहों के सूचकांक फिसल गये।
सेंसेक्स की कंपनियों में टीसीएस का शेयर सबसे अधिक 2.89 प्रतिशत चढ़ा। इंड्सइंड बैंक में 2.84 फीसदी, एलएंडटी में 1.80, आईटीसी में 1.35, रिलायंस इंडस्ट्रीज में 1.11, हिंदुस्तान यूनिलिवर में 1.08, सनफार्मा में 0.82, कोटक महिंद्रा बैंक में 0.52, नेस्ले इंडिया में 0.46, डॉ. रेड्डीज लैब में 0.36, भारती एयरटेल में 0.34, मारुति सुजुकी में 0.25, एचडीएफसी में 0.23, भारतीय स्टेट बैंक में 0.16 और महिंद्रा एंड महिंद्रा में 0.14 प्रतिशत की बढ़त रही।
एचसीएल टेक्नोलॉजीज ने सर्वाधिक 2.63 प्रतिशत का नुकसान उठाया। एक्सिस बैंक का शेयर 1.71 फीसदी, एशियन पेंट्स का 1.32, अल्ट्राटेक सीमेंट का 1.26, इंफोसिस का 1.23, टेक महिंद्रा का 1.19, टाइटन का 1.04, बजाज आॅटो का 0.76, आईसीआईसीआई बैंक का 0.61, बजाज फाइनेंस का 0.47, एनटीपीसी का 0.34, बजाज फिनसर्व का 0.29, एचडीएफसी बैंक तथा पावरग्रिड दोनों का 0.20 और ओएनजीसी का 0.19 प्रतिशत टूट गया।

Recent Posts

%d bloggers like this: