अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सोशल मीडिया का उपयोग समाज एवं देश के विकास के लिए हो : वी. सतीश


रांची:- भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय संगठक वी. सतीश ने सोशल मीडिया दो धारी तलवार बताया और कहा कि सोशल मीडिया का उपयोग समाज, राज्य और देश के विकास के लिए किया जाना चाहिए।
वी0 सतीश ने शुक्रवार को मोर्चा की सोशल मीडिया एवं मीडिया प्रशिक्षण वर्ग कार्यक्रम के दौरान कहा कि सोशल मीडिया दो धारी तलवार की तरह है। अगर एक अच्छी पोस्ट आपको फायदा पहुंचा सकती है तो एक गलत पोस्ट आपको नुकसान भी पहुंचाती है। इसलिए अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर सकारात्मक, भावनात्मक और केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं के विषय में ज्यादा से ज्यादा लिखना है ताकि लोगों तक सही और सटीक जानकारी पहुंच सके।
भाजपा नेता ने कहा कि -हमें उन सभी करोड़ों लोगों के विषय में सोचना है जिनके घर हर दिन चूल्हा नहीं जलता। ऐसे लोगों के लिए संवेदना बनानी होगी तभी हम अपने कार्य में सफल हो सकेंगे। लोगों तक सही जानकारी पहुंचाना हमारी प्राथमिक लक्ष्य में शामिल होना चाहिए। हम सभी कार्यकर्ताओं को सोशल मीडिया का उपयोग करने के लिए स्वयं को विकसित करना होगा। अपने महापुरुषों की जीवनी पढ़नी होगी क्योंकि उनके प्रयास से ही आज हम सभी खुले में सांस ले रहे है।
सतीश ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी आज विश्व की सबसे बड़ी पार्टी है, क्योंकि पार्टी के कार्यकर्ता पूरे लगन के साथ पंडित दीनदयाल उपाध्याय के अंत्योदय के सपने को पूरा करने के लिए कार्य करते हैं। पार्टी देश के प्रत्येक व्यक्ति के साथ खड़ी है। आज का भारत बदलता भारत है। हमारा देश महान सपूतों एवं अनगिनत स्वतंत्रता सेनानियों के मेहनत, बलिदान और समर्पण से बन रहा है। हमें ऐसे ही मिलकर पार्टी को आगे बढ़ाते हुए भारत को विश्व गुरु के तौर पर स्थापित करना है।
भाजपा नेता ने कहा कि आज लोकसभा में सबसे अधिक सीट अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति की है। सदियों से अनुसूचित जाति समाज के साथ छल होता आया है। उन्हें शिक्षा, संपत्ति, सम्मान से वंचित रखा गया है। लेकिन आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अथक प्रयास से अनुसूचित जाति समाज को उनका खोया हुआ सम्मान मिल रहा है। उन्होंने कहा कि संविधान निर्माता बाबा साहब भीमराव अंबेडकर ने जिस तरह की विपरीत स्थिति से गुजर कर खुद को सक्षम बनाया वह किसी प्रेरणा से कम नहीं है। पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु के मंत्रिमंडल में ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं था जो बाबा साहब भीमराव अंबेडकर के समकक्ष खड़ा हो सकता था। बाबा साहब को सत्ता का लालच नहीं था फिर भी कांग्रेस पार्टी ने उन्हें दो बार चुनाव में हराने का काम किया।

%d bloggers like this: