अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

देश-विदेश की बड़ी कंपनियों में नौकरी छोड़ कर कृषि-पशुपालन से लाखों कमा रहे दो युवा

एमबीए किसान के रूप चर्चित युवाओं ने स्थानीय लोगों को रोजगार उपलब्ध कराया



रांची:- कृषि क्षेत्र में अपार संभावनाओं को देखते हुए वैसे तो कई लोग इस कार्य से जुड़ते जा रहे हैं लेकिन कुछ ऐसे भी शख्स हैं जिन्होंने देश विदेश की मल्टीनेशनल कंपनियों में नौकरी को छोड़ कर अब फार्मिंग सेक्टर को चुना है।
रांची के रहने वाले उम्मेर अशरफ और राजीव सिन्हा ने एमबीए की डिग्री हासिल करके देश और विदेश के कई बड़ी-बड़ी कंपनियों में नौकरी करने के बाद पशुपालन और कृषि कार्य को चुना है। उम्मेर अशरफ बताते हैं कि नौकरी के दिनों से ही वे दोनो फार्मिंग सेक्टर से जुड़ना चाहते थे। आज वे बकरी पालन और खेती एक साथ कर रहे हैं आने वाले दिनों में गौपालन की भी तैयारी है।
कई वर्षों तक विदेश में अच्छी नौकरी कर चुके राजीव सिन्हा खेती किसानी से जुड़कर अब काफी संतुष्ट दिखते हैं। उनका कहना है कि खेती की पारंपरिक तरीकों के साथ तकनीक का इस्तेमाल करके वह कुछ नया करना चाहते हैं।
राजीव सिन्हा और उम्मैर अशरफ ने एक साथ मिलकर कृषि और पशुपालन से जुड़कर खुद का स्वरोजगार शुरू किया है। इनके इस कदम से स्थानीय लोगों के बीच रोजगार की संभावनाएं भी बढ़ी है। श्रवण पाहन को इस बात की अधिक खुशी है कि उन्हें अपने गांव घर के पास ही नौकरी मिल गई है।
राजीव सिन्हा और उम्मेर अशरफ की जैसे लोग मल्टीनेशनल कंपनियों में काम करने की जगह जमीन से जुड़कर कृषि और पशुपालन को बेहतर मानते है। इनका मानना है कि इस तरह से वे खुद आत्मनिर्भर बनेंगे,साथ ही दूसरों के लिए एंप्लॉयमेंट भी जेनरेट करेंगे।

%d bloggers like this: