June 18, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मरीजों का समय पर हो इलाज, सभी प्रखंडों में खुले कोरोना अस्पताल : चंद्रप्रकाश

रांची:- गिरिडीह के आजसू सांसद चंद्र प्रकाश चौधरी ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से अपने संसदीय क्षेत्र अंतर्गत गिरिडीह, धनबाद तथा बोकारो जिला के सभी प्रखंडों में कोविड-19 जांच केंद्र चालू करने का आग्रह किया है। साथ ही कम से कम प्रखंड स्तर के स्वास्थ्य केंद्रों में कोविड -19 वार्ड चालू कर 24 घंटा आपातकालीन चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने और चिकित्सकों की अन्ययत्र प्रतिनियुक्ति रद्द कर आवश्यकता अनुसार चिकित्सकों की प्रतिनियुक्ति प्रखंड स्वास्थ्य केंद्रों में करने के लिए समुचित कार्रवाई करने का भी आग्रह किया है। इसके साथ ही उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में कोविड- 19 से संक्रमित होम आई सोलेशन में रहने वाले मरीजों को समय पर दवा की किट उपलब्ध कराने व पंचायतों के क्वारारंटाइन सेंटर में प्रवासी मजदूरों के लिए उचित व्यवस्था करने को लेकर भी शीघ्र आवश्यक कार्रवाई करने का भी आग्रह किया है। उन्होंने सोमवार को मुख्यमंत्री को लिखे अपने पत्र में कहा है कि वैश्विक महामारी कोविड -19 का संक्रमण ग्रामीण क्षेत्रों में दिनों-दिन बढ़ने के कारण आम आदमी संक्रमित हो रहे हैं। अधिकतर लोग संक्रमण को आम सर्दी -खांसी, बुखार समझकर स्थानीय अप्रशिक्षित ग्रामीण चिकित्सक से इलाज करा रहे हैं। जब अचानक दो-तीन दिन बाद संक्रमण बढ़ता है तो लोग को कोविड -19 करने के लिए परेशान हो जा रहे हैं। स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में जांच की स्थायी व्यवस्था नहीं रहने के कारण जांच की प्रक्रिया एवं जांच रिपोर्ट आते-आते मरीज काफी गंभीर होते जा रहे हैं। तत्काल ऑक्सीजन एवं अन्य चिकित्सकीय सुविधा नहीं मिलने के कारण मरीज की जान भी चली जा रही है। स्थिति यह है कि मरीज एवं लोगों की लापरवाही तथा जानकारी के अभाव में परिवार के अन्य सदस्य भी संक्रमित होते जा रहे हैं, जो दुखद एवं गंभीर चिंतनीय है। प्रखंड के स्वास्थ्य केंद्रों से चिकित्सकों की प्रतिनियुक्ति जिला में कर देने के कारण ग्रामीण चिकित्सा पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में समय पर चिकित्सक नहीं मिल रहे हैं। उन्होंने कहा कि गिरिडीह संसदीय क्षेत्र के ग्रामीणों से प्राय: आम शिकायत प्राप्त हो रही है कि प्रखंडों में कोविड-19 संक्रमितों के भर्ती होने की व्यवस्था नहीं रहने के कारण सभी मरीजों को जिला अस्पताल में जाना पड़ रहा है। होम आईसोलेशन में रहने वाले मरीजों को समय पर दवा की कीट नहीं मिल रही है। प्रखंडों में कोई निजी अस्पताल भी नहीं है, जो संक्रमितों का इलाज कर सकें। उन्होंने पत्र में इस बात का उल्लेख किया है कि संसदीय क्षेत्र के अधिकतर लोग जो राज्य एवं देश के बाहर काम करने गए थे। वह लोग इस विषम परिस्थिति में गांव आ गए हैं या आ रहे हैं, जिसके लिए पंचायतों में क्वारंटाइन सेंटर में उचित व्यवस्था नहीं रहने के कारण लोग सीधे-सीधे अपने-अपने घरों जा रहे हैं या चले गए हैं। जिसके कारण संक्रमण और तेजी से हो रहा है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: