May 8, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सम्पूर्ण विश्व वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रहा है

चिरकुंडा:- सार्वदेशिक आर्यप्रतिनिधि सभा के प्रस्ताविक कार्यक्रम घर घर यज्ञ, हर घर यज्ञ 3 मई सुबह 9:00 की सफलता के लिए आर्य समाज निरसा के तत्वावधान में तैयारी पूरी हो गई है। राजार्य सभा के झारखण्ड प्रदेश अध्यक्ष हरहर आर्य ने कहा कि मानव समाज की भलाई के लिए विश्व के लोग एक साथ, एक समय अपने अपने घर पर, कार्य स्थल पर यज्ञ करेंगे। जड़ी बूटी से बनी हवन सामग्री और देशी गौ घी से लोग यज्ञ करेंगे। धनबाद से राजेश वर्णवाल, गोबिंदपुर से राजू कुमार, निरसा- अशोक घाटी, मुगमा-ललिता चौहान, चिरकुंडा- गांधारी शर्मा, क्षेत्र का प्रभार दिया गया है। पूरे धनबाद जिले अंतर्गत 1500 परिवार के घरों में वैदिक यज्ञ किया जाएगा। घर घर यज्ञ, हर घर यज्ञ का आयोजन आर्य समाज की सर्वोच्च संस्था सार्वदेशिक आर्यप्रतिनिधि सभा की देख रेख में हो रहा है। हरहर आर्य ने कहा यज्ञ के द्वारा जो शक्तिशाली तत्त्व वायुमण्डल में फैलाये जाते हैं, उनसे हवा में घूमते असंख्यों रोग कीटाणु सहज ही नष्ट होते हैं। डी.डी.टी., फिनायल आदि छिड़कने, बीमारियों से बचाव करने वाली दवाएँ या सुइयाँ लेने से भी कहीं अधिक कारगर उपाय यज्ञ करना है। साधारण रोगों एवं महामारियों से बचने का यज्ञ एक सामूहिक उपाय है। दवाओं में सीमित स्थान एवं सीमित व्यक्तियों को ही बीमारियों से बचाने की शक्ति है; पर यज्ञ की वायु तो सर्वत्र ही पहुँचती है और प्रयतन न करने वाले प्राणियों की भी सुरक्षा करती है। मनुष्य की ही नहीं, पशु-पक्षियों, कीटाणुओं एवं वृक्ष-वनस्पतियों के आरोग्य की भी यज्ञ से रक्षा होती है।
यज्ञ की ऊष्मा मनुष्य के अंतःकरण पर देवत्व की छाप डालती है। जहाँ यज्ञ होते हैं, वह भूमि एवं प्रदेश सुसंस्कारों की छाप अपने अन्दर धारण कर लेता है और वहाँ जाने वालों पर दीर्घकाल तक प्रभाव डालता रहता है। प्राचीनकाल में तीर्थ वहीं बने हैं, जहाँ बड़े-बड़े यज्ञ हुए थे। जिन घरों में, जिन स्थानों में यज्ञ होते हैं, वह भी एक प्रकार का तीर्थ बन जाता है और वहाँ जिनका आगमन रहता है, उनकी मनोभूमि उच्च, सुविकसित एवं सुसंस्कृत बनती हैं। महिलाएँ, छोटे बालक एवं गर्भस्थ बालक विशेष रूप से यज्ञ शक्ति से अनुप्राणित होते हैं। उन्हें सुसंस्कारी बनाने के लिए यज्ञीय वातावरण की समीपता बड़ी उपयोगी सिद्ध होती है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: