June 18, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आनंद मोहन की रिहाई को ले समर्थको का सीएम पर बढ़ने लगा दबाव

आरा:- बिहार की राजनीति में तीन दशक से लगातार अपनी मजबूत पकड़ रखने वाले जननेता आनंद मोहन की जेल से रिहाई को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के आनंद समर्थको से किए गए वादे अब पूरा करने की मांग राज्य के कोने कोने से उठने लगी है। युवाओं के बीच लोकप्रिय नेता और पूर्व सांसद आनंद मोहन की रिहाई का समर्थको को भरोसा दिलाते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सार्वजनिक मंच से कहा था कि कुछ लोग हमारे पुराने साथी के बारे में कह रहे हैं।जितनी चिंता आपको है उससे कम चिंता मुझको नही हैं।आप लोगो मे से बहुत लोगो को जानकारी होगी,बहुत लोगो को जानकारी नही होगी हमलोगों के बीच कितना लगांव रहा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आनंद मोहन के समर्थको को सार्वजनिक रूप से तब भरोसा दिलाया था जब पिछले वर्ष 20 जनवरी को महाराणा प्रताप की पुण्यतिथि के मौके पर पटना के मिलर स्कूल मैदान में स्मृति सभा का आयोजन हुआ था।बिहार के कोने कोने से क्षत्रिय समाज के बड़ी संख्या में लोग इस समारोह में हिस्सा लेने पटना पहुंचे थे।इस भीड़ में युवाओ की संख्या बहुत बड़ी थी और जब मुख्यमंत्री सभा को संबोधित करने के लिए जैसे ही मंच पर खड़े हुए भीड़ में से राजपूत समाज के बिहार के बड़े नेता आनंद मोहन को रिहा करने की आवाज उठने लगी। मिलर स्कूल के मैदान में गगनभेदी नारो के साथ अपने नेता की रिहाई की मांग उठाने के बीच मुख्यमंत्री को आनंद मोहन के साथ अपने पुराने और मधुर रिश्तों की याद दिलानी पड़ी और उन्होंने कहा था कि हमसे जो भी हो सकेगा हम जरूर करेंगे। अब जबकि कोरोना को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने भी सजा काट चुके कैदियों को रिहा करने पर विचार करने की बात कही है ऐसे में अब उम्र कैद की सजा काट चुके पूर्व सांसद आनंद मोहन की रिहाई की गूंज बिहार के कोने कोने में सुनाई देने लगी है। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर तो पूर्व सांसद आनंद मोहन की रिहाई के लिए धूम मचा हुआ है।जस्टिश फ़ॉर आनंद मोहन और सरकार आनंद मोहन को रिहा करे के नाम से जबरदस्त अभियान चल रहा है। आनंद मोहन के पुत्र और विधायक चेतन आनंद ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी कर अपने पिता को मानवीय आधार पर रिहा करने की मांग उठाई है और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पूछा है कि आपने भरी सभा मे चिंता की जो बात कही थी उसे अब तो पूरा करें क्योंकि उनके पिता की उम्र कैद की सजा के चौदह वर्ष बीत चुके हैं और अब महज एक सप्ताह का समय बचा हुआ है। चेतन के साथ ही उनकी मां और आनंद मोहन की पत्नी पूर्व सांसद लवली आनंद ने भी बिहार सरकार से आनंद मोहन की रिहाई के लिए मार्मिक अपील की है।उन्होंने कहा है कि कोरोना का खतरा है और आनंद मोहन की वृद्ध मां कोरोना से संक्रमित हैं।उन्हें अपने पुत्र की सेवा के लिए जरूरत है। आनंद मोहन की पुत्री सुश्री सुरभि आनंद ने भी अपने पिता की रिहाई की मांग सरकार से की है। बिहार के सहरसा जेल में विगत 14 वर्षों से बन्द और अब उम्र कैद की सजा काट चुके पूर्व सांसद ने इतने वर्षों की अवधि में एक दिन का भी पेरोल नही लिया है। पूर्व सांसद के समर्थको ने राज्य के हर जिले से अपने नेता की रिहाई को लेकर आवाज बुलंद करनी शुरू कर दी है। फ्रेंड्स ऑफ आनंद के शाहाबाद प्रक्षेत्र के प्रमुख नेता ओम प्रकाश सिंह ने कहा है कि पूर्व सांसद आनंद मोहन की उम्र कैद की 14 साल की अवधि खत्म होने को है और अब मात्र एक सप्ताह का समय बच गया है ऐसे में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को उन्हें रिहा करने के लिए आगे आना चाहिए और हजारो समर्थको के बीच किये गए वादे को पूरा करना चाहिए।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: