अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मॉनसून सत्र से पूर्व 24 विधान पार्षदों की सीट रिक्त होने से बदली नजर आएगी परिषद की तस्वीर

पटना:- बिहार विधान मंडल के इस बार के मॉनसून सत्र से पूर्व ही चौबीस विधान पार्षदों की सीट रिक्त हो जाने से दलीय संख्याबल के आधार पर परिषद की तस्वीर बदली हुई नजर आएगी। कोरोना महामारी को लेकर बिहार में पंचायत चुनाव समय पर नहीं होने के कारण स्थानीय निकाय से चुनकर आने वाले 24 विधान पार्षदों की सीट 16 जुलाई के बाद से खाली हो जाएगी। पंचायत चुनाव नहीं होने से फिलहाल इन सीटों को भरा नहीं जा सकता है। ऐसे में 26 जुलाई से शुरू हो रहे बिहार विधानमंडल के मानसून सत्र में विधान परिषद के अंदर दलीय स्थिति बदल जाएगी। विधान परिषद में हालांकि 16 जुलाई के बाद भी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) का ही दबदबा बना रहेगा। सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड (जदयू ) संख्या बल के लिहाज से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर भारी रहेगा। बदली हुई तस्वीर में जदयू सबसे बड़ी पार्टी के रूप में जहां 22 सदस्यों के साथ सदन में मौजूद रहेगी वहीं भाजपा के 15 सदस्य रहेंगे। कुल 75 सदस्यों वाली बिहार विधान परिषद में अभी जदयू सदस्यों की संख्या 28 है। वहीं, भाजपा सदस्यों की संख्या 26 है। जदयू की भाजपा से अभी दो सीट अधिक है लेकिन 16 जुलाई के बाद स्थिति बदल जाएगी। जदयू और भाजपा के बीच सात सीटों का अंतर हो जाएगा। ऐसे में जदयू इस सदन में बड़े भाई की भूमिका में रहेगा। जदयू कोटे से छह विधान पार्षदों का कार्यकाल पूरा हो रहा है। उनमें नालंदा से श्रीमती रीना यादव ,नवादा से सलमान रागीब ,गया से श्रीमती मनोरमा देवी ,भोजपुर से राधाचरण शाह, मुजफ्फरपुर से दिनेश सिंह और मुंगेर से संजय प्रसाद शामिल हैं। वहीं, भाजपा कोटे से जिनका कार्यकाल समाप्त हो रहा है, उनमें सारण से सच्चिदानंद राय, बेगूसराय से रजनीश कुमार ,सहरसा से नूतन सिंह ,कटिहार से अशोक अग्रवाल ,किशनगंज से दिलीप जायसवाल ,रोहतास से संतोष कुमार सिंह, मधुबनी से सुमन महासेठ, गोपालगंज से आदित्य नारायण पांडे, पूर्वी चंपारण से राजेश कुमार और सिवान से टुन्न जी पांडे हैं। इसी तरह राष्ट्रीय जनता दल (राजद ) के वैशाली से सुबोध कुमार और कांग्रेस के पश्चिम चंपारण से राजेश राम का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। 75 सदस्य वाली विधान परिषद में कुल छह सीटें रिक्त हैं, जिसमें स्थानीय प्राधिकार कोटे की पांच सीटें पहले से ही खाली हैं। इसके साथ ही पिछले दिनों जदयू विधान पार्षद तनवीर अख्तर का कोरोना के कारण निधन हो गया था। स्थानीय प्राधिकार से विधान पार्षद रीतलाल यादव ,दिलीप राय और मनोज यादव विधायक चुने गए हैं, जिसके कारण इनकी सीट रिक्त है वहीं सुनील सिंह और हरिनारायण चौधरी का निधन हो चुका है। श्री रीतलाल यादव को छोड़कर सभी राजग के विधान पार्षद थे। श्री दिलीप राय और मनोज यादव जदयू के विधायक हैं जबकि रीतलाल यादव राजद के विधायक हैं।

%d bloggers like this: