अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

प्रधानमंत्री के सपनों में आग लगा रहे हैं अधिकारी, मुख्यमंत्री ने दिए जांच के निर्देश


बेगूसराय:- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली बिहार सरकार किसानों की आय में वृद्धि के लिए लगातार प्रयास कर रही है। फसल बीमा योजना, सहायता अनुदान योजना समेत अन्य योजनाओं के माध्यम से किसानों की मदद करने का प्रयास किया जा रहा है लेकिन अधिकारियों और कर्मचारियों की मनमानी के कारण योजना धरातल पर सही तरीके से क्रियान्वित नहीं हो पाती है, जिसके कारण लोग परेशान रहते हैं। हाल के दिनों में आई बाढ़ और समय पूर्व से लगातार हो रही भीषण बारिश के कारण बेगूसराय जिले के तमाम 18 प्रखंडों के किसान बुरी तरह से प्रभावित हो गए, करोड़ों की फसलें क्षतिग्रस्त हुई लेकिन रिपोर्ट भेजने में जमकर मनमानी की गई। आपदा प्रबंधन विभाग ने मात्र 41 पंचायत के प्रभावित होने का प्रतिवेदन दिया, कृषि विभाग ने 103 पंचायत के प्रभावित होने का प्रतिवेदन दिया है। दोनों विभाग के प्रतिवेदन में काफी अंतर होने पर मुख्यमंत्री ने इसे गंभीरता से लिया है तथा डीएम को जांच का निर्देश दिया गया। कृषि विभाग के अनुसार गढ़पुरा, नावकोठी, भगवानपुर, चेरिया बरियारपुर और डंडारी प्रखंड का कोई भी पंचायत आपदा से प्रभावित नहीं हुआ है। जबकि नावकोठी, चेरिया बरियारपुर और डंडारी प्रखंड से होकर बूढ़ी गंडक नदी गुजरती है तथा यहां हजारों एकड़ फसल बर्बाद हुई है। हसनपुर चीनी मिल ने अपने प्रतिवेदन में कहा है कि गढ़पुरा प्रखंड में 70 प्रतिशत से अधिक किसान बारिश से परेशान हो गए, यह मामला केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री और बेगूसराय के सांसद गिरिराज सिंह तक पहुंच गया है। फिलहाल दो विभागों द्वारा प्रतिवेदन भेजने में हुए भारी अंतर को लेकर मुख्यमंत्री के निर्देश पर बेगूसराय के डीएम ने रैंडम जांच करने का निर्देश दिया है। डीएम अरविंद कुमार वर्मा ने बताया कि गंगा नदी के जलस्तर में अप्रत्याशित वृद्धि होने के कारण बेगूसराय जिला के आठ प्रखंड बछवाड़ा, तेघड़ा, बरौनी, मटिहानी, बेगूसराय, शाम्हो, बलिया एवं साहेबपुर कमाल में बाढ़ तथा अन्य अंचलों में अतिवृष्टि से जल जमाव के कारण फसल क्षतिग्रस्त होने से संबंधित प्रतिवेदन में जिला आपदा प्रबंधन शाखा द्वारा प्रभावित पंचायतों की संख्या-41 एवं जिला कृषि पदाधिकारी की ओर से प्रभावित पंचायतों की संख्या-103 दर्शाया गया है। विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई बाढ़ से संबंधित समीक्षात्मक बैठक में प्रभावित पंचायतों की संख्या में आये भिन्नता की जांच करने का निर्देश मुख्यमंत्री द्वारा दिया गया है। जिला कृषि पदाधिकारी के प्रतिवेदन में बेगूसराय प्रखंड के पांच, मटिहानी के 13, बरौनी के 12, वीरपुर के एक, शाम्हो के तीन, बलिया के सात, साहेबपुर कमाल के दस, तेघडा के 11, बछवाड़ा के 11, मंसूरचक के एक, खोदावंदपुर के आठ, छौड़ाही के दस तथा बखरी के 11 पंचायत को प्रभावित बताया गया है।
डीएम ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश के आलोक में संबंधित अंचल के राजस्व कर्मचारी, कृषि सलाहकार एवं कृषि समन्वयक संयुक्त रूप से प्रभावित पंचायतों में फसल क्षति से संबंधित वास्तविक स्थिति की जांच करने का आदेश दिया गया है। इसके साथ ही अंचलाधिकारी एवं प्रखंड कृषि पदाधिकारी स्वयं संयुक्त रूप से प्रभावित पंचायतों में फसल क्षति से संबंधित वास्तविक स्थिति का रैंडम जांच करेंगे। संबंधित प्रखंड के वरीय पदाधिकारी जांच का अनुश्रवण और स्वयं भी रैंडम जांच कर तीन दिनों में प्रतिवेदन देंगे।

%d bloggers like this: