May 8, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

विधायक और दारोगा विवाद मामले में पुलिस एसोसिएशन ने सीआईडी जांच की मांग की

रांची:- दरोगा कश्यप गौतम और विधायक दीपिका पांडेय सिंह विवाद मामले में पुलिस एसोसिएशन ने सीआईडी जांच की मांग की है। झारखंड पुलिस एसोसिएशन ने कहा कि वे डीआईजी को चिट्ठी लिखकर मामले की सीआईडी जांच की मांग करेंगे। झारखंड पुलिस एसोसिएशन का आरोप है कि महागामा की कांग्रेस विधायक दीपिका पांडेय सिंह के कृत्यों से गोड्डा पुलिस दहशत में है।
झारखंड पुलिस एसोशिएशन का कहना है कि महामागा विधायक की हरकतों की वजह से पुलिसकर्मियो में सरकार के प्रति भी असंतोष पनप रहा है। एसोसिएशन का कहना है कि यदि विधायक का रवैया ऐसा ही रहा तो झारखंड पुलिस आंदोलन को बाध्य होगी। झारखंड पुलिस एसोसिएशन की मांग है कि महामागा विधायक दीपिका पांडेय सिंह को जल्दी गिरफ्तार किया जाये।
झारखंड पुलिस एसोसिएशन का कहना है कि किस संवैधानिक अधिकार के तहत विधायक दीपिका पांडेय सिंह पुलिस अधिकारी के काम में हस्तक्षेप करती हैं। क्या पुलिस अधिकारी विधायक से इजाजत लेकर किसी थाना या गोड्डा जिला में प्रवेश करेगा। एसोसिएशन का आरोप है कि विधायक दीपिका पांडेय सिंह अपने हिसाब से गोड्डा पुलिस और कानून को संचालित करना चाहती हैं। विधायक की गतिविधियों से गोड्डा पुलिस और झारखंड पुलिस मर्माहत है।
एसोसिएशन का कहना है कि दरोगा गौतम कश्यप लंबित कांडो और अन्य मामलों का प्रभार देने पुलिस लाइन से मेहरमा आया था। इस बीच मेहरमा थानाक्षेत्र के प्रतिष्ठित व्यक्ति राजेश लाला ने आग्रह कर उसे अपने आवास पर बुलाया। बातचीत के दौरान विधायक दीपिका पांडेय सिंह वहां अपने सहयोगी रोबिन मिश्रा के साथ पहुंची। रोबिन मिश्रा गौतम कश्यप के साथ मारपीट करने लगे। दस्तावेज फाड़ दिया। कुछ दस्तावेज विधायक अपने साथ ले गयीं।
मामले में विधायक के खिलाफ मेहरमा थाने में मामला दर्ज करवाया गया। पुलिस एसोसिएशन का आरोप है कि जब विधायक को इस बात की जानकारी मिली तो वो मेहरमा थाना पहुंच गयीं। विधायक ने थाने में धरना दिया। पुलिस पर दवाब डालकर दरोगा कश्यप गौतम के खिलाफ झूठा मुकदमा लिखवाया। एसोसिएशन का ये भी आरोप है कि विधायक दीपिका सिंह पांडेय के व्यवहार से तंग आकर पांच थाना प्रभारियों ने ट्रांसफर की मांग की थी। मेहरमा, महगामा, हनवारा, बलवाअड्डा और ठाकुर गंगटी के थाना प्रभारियों ने ट्रांसफर की मांग की थी।
दूसरी तरफ इस पूरे मामले में विधायक दीपिका पांडेय सिंह का कहना है कि उन पर लगाये गये तमाम आरोप बेबुनियाद हैं। उल्टा दरोगा कश्यप गौतम ने उनके साथ बदसलूकी की। बीते 26 अप्रैल को मेहरमा थाने में दर्ज करवाये गये मामले को लेकर दीपिका पांडेय मेहरमा थाना पहुंची थी। विधायक ने कहा था कि वो यहां अपनी गिरफ्तारी देने आई हैं। विधायक दीपिका सिंह पांडेय ने दरोगा कश्यप गौतम के खिलाफ भी प्राथमिकी दर्ज करवाई। देखना दिलचस्प होगा कि ये कहां जाकर खत्म होता है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: