अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सरकार पहले निहत्थे कार्यकर्ताओं पर लाठी चलवाती है, फिर मुकदमा भी दर्ज कराती है-आजसू पार्टी


रांची:- आजसू पार्टी के प्रवक्ता डॉ0 देवशरण भगत ने कहा कि पिछड़ों के वाज़िब हक-अधिकार की मांग को लेकर सामाजिक न्याय मार्च पर निकले निहत्थे कार्यकर्ताओं पर हुए बर्बरतापूर्ण लाठीचार्ज ने हेमंत सरकार के असली चेहरे को उजागर कर दिया है। झामुमो महागठबंधन की सरकार पिछड़ा विरोधी है और लाठी-डंडे तथा केस-मुकदमों के दम पर उनकी आवाज़ को दबाने की कोशिश कर रही है।
शांतिपूर्ण ढंग से अपनी मांगों को लेकर मार्च कर रहे निहत्थे कार्यकर्ताओं पर सरकार पहले अंधाधुंध लाठियां चलवाती है और फिर उन्हीं पर मुक़दमा भी दर्ज करवाती है। यह पूरा घटनाक्रम किसी फिल्मी पटकथा से कम प्रतीत नहीं होता, जिसमें षड्यंत्र रचने वाला पर्दे के पीछे से पूरा स्क्रिप्ट लिख रहा है और झारखण्ड पुलिस उस स्क्रिप्ट का अक्षरशः अनुपालन कर रही है।
चुनावी नारों और मेनिफेस्टो में पिछड़ों के लिए बड़ी-बड़ी बातें करनेवाली पार्टी को आजसू पार्टी ने स्मरण पत्र के जरिये उन वादों-नारों को याद करवाया और सरकार बौखला गयी। इस पूरे घटनाक्रम ने सरकार के दोहरे चरित्र का पर्दाफाश कर दिया है।
झामुमो महागठबंधन सरकार की कथनी और करनी में फर्क है। लेकिन आजसू पार्टी पिछड़ों की हकमारी अब और नहीं होने देगी। सामाजिक न्याय मार्च तो बस एक शुरुआत है।
आरक्षण महज गरीबी उन्मूलन या आर्थिक सुधार योजना नहीं है। यह देश और राज्य में समानुपातिक प्रतिनिधित्व की व्यवस्था है। जबतक सामाजिक न्याय झारखंड के पिछड़ों, नौजवानों एवं महिलाओं को नहीं मिल पाएगा, तब तक वे खुद को उस स्तर तक स्थापित नहीं कर पाएंगे, जहाँ उनका हक है। पिछड़ों के मुद्दे पर आजसू पार्टी और मुखर होगी और एक बड़े आंदोलन का नेतृत्व करेगी।

%d bloggers like this: