April 17, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

पंचतत्व में विलीन हुआ स्वतंत्रता सेनानी नीलकंठ सहाय का पार्थिव शरीर, पुत्र ने दी मुखाग्नि

कोयल नदी के राजा हरिश्चंद्र घाट पर हुआ अंतिम संस्कार

मेदिनीनगर:- झारखंडमें पलामू के स्वतंत्रता सेनानी नीलकंठ सहाय का पार्थिव शरीर शुक्रवार को पंचतत्व में विलीन हो गया। पलामू प्रमंडलीय मुख्यालय मेदिनीनगर के कोयल नदी तट अवस्थित राजा हरिश्चंद्र घाट पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। मातमी धुन बजाकर एवं फायर कर पुलिस की टुकड़ी ने उन्हें सलामी दी। उनके पुत्र अमित सहाय ने उन्हें मुखाग्नि दी।
पूर्वाहन में स्वतंत्रता सेनानी के आवास से उनकी अंतिम यात्रा निकाली गयी। घर से निकली शवयात्रा छहमुहान पर राजेन्द्र प्रसाद की प्रतिमा के समक्ष आकर रूकी, यहां से बस पड़ाव होते हुए कांग्रेस भवन पहुंची,जहां कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने स्वतंत्रता सेनानी को श्रद्धांजलि दी। साथ ही कांग्रेस का झंडा देकर विदा किया। यहां से निकलकर शव यात्रा भगत सिंह चौक पर आकर रूकी, वहां इप्टा, प्रगतिशील लेखक संघ, मिशन समृद्धि, शहादत समारोह समिति की ओर से पुष्पांजलि अर्पित की गयी। 11 बजे शव लेकर लोग राजा हरिश्चन्द्र घाट पर पहुंच।. इसके बाद राजकीय सम्मान और अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पूरी की गयी।
गौरतब है कि गुरुवार दोपहर एक बजे मेदिनीनगर के शहर थाना के सामने स्थित आवास पर उनका निधन हो गया था। वे पिछले एक सप्ताह से बीमार चल रहे थे।उनकी उम्र 99 वर्ष हो गई थी, देश को आजादी दिलाने के लिए 1942 के आंदोलन में नीलकंठ सहाय को 200 लोगों साथ रांची में गिरफ्तार किए गए थे, उस वक्त उनकी उम्र महज 20 वर्ष थी।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: