अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

टाटा मैजिक के साइकिल सवार को पीछे से टक्कर मारने से मौत, वाहन जब्त


चाईबासा:- गोइलकेरा थाना क्षेत्र के बेहड़ा गांव में टाटा मैजिक मालवाहक वाहन
की टक्कर से साइकिल सवार एक व्यक्ति की मौत हो गई। मृतक गोइलकेरा के कोमांग ग्राम निवासी 55 वर्षीय सुकदा मरांडी था। घटना शुक्रवार रात की है। सूचना मिलते ही थाना प्रभारी विकास कुमार मौके पर पहुंचे और वाहन को जब्त
कर लिया। और चालक और खलासी को भी हिरासत में ले लिया। शुक्रवार को रात हो जाने के कारण शव को गोइलकेरा थाने में लाकर रखा गया है। आज सुबह पोस्टमार्टम के लिए शव को चक्रधरपुर भेज दिया गया। जानकारी के अनुसार कोमांग गांव निवासी सुकदा साइकिल से कोतरोगड़ा गांव गए थे। देर रात वह घर वापस लौट रहे थे। इसी दौरान मनोहरपुर की ओर से आ रही तेज
रफ्तार टाटा मैजिक मालवाहक गाड़ी ने उन्हें पीछे से टक्कर मार दी। जिससे सुकदा की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। स्थानीय लोगों ने बताया कि हादसे के बाद चालक वाहन को लेकर भाग रहा था। जिसे पीछा कर पकड़ लिया गया। वहीं पुलिस ने मौके पर पहुंच कर दोनों को हिरासत में ले लिया और वाहन भी जब्त कर लिया।
हाथी ने वृद्ध को पटक कर मार डाला, वन विभाग देगा मुआवजा
गुमला। भरनो थाना क्षेत्र के बोड़ो गांव में आज सुबह जंगली हाथी ने एक 60 वर्षीय वृद्ध गंदुर उरांव को पटक पटक कर मार डाला। बताया जा रहा है कि अहले सुबह पांच बजे वृद्ध शौच के लिए घर से निकला था। इसी दौरान रास्ते में वृद्ध को मार डाला। स्थानीय लोगों ने हाथी को खदेड़कर पंडरानी होते हुए समसेरा के जंगल में जब तक भगाया। तब तक देर हो चुकी था। गंदुर के पुत्र बिरसा उरांव ने बताया के उसके पिता सुबह शौच के लिए निकले थे। तभी जंगली हाथी गांव के करीब से गुजर रहा था। उसने बताया कि मेरे पिता की नजर हाथी पर नहीं पड़ी और दोनों आमने सामने हो गए। बाद में स्थानीय लोगों ने घटना की सूचना वन विभाग को दी। बिरसा ने वन विभाग से मुआवजे
की मांग की है। सूचना मिलते ही वनपाल एंथोनी लकड़ा और कर्मी घटनास्थल पहुंचे और पीड़ित परिवार को तत्काल 25 हजार रुपए सहायता राशि दी। वनपाल एंथोनी लकड़ा ने कहा कि पीड़ित परिवार को 4 लाख रुपए मुआवजा दिया जाएगा। इसमें 25 हजार दे दिया गया है और शेष 3.75 लाख रुपये कागजी प्रक्रिया पूरा होने के बाद उपलब्ध कराया जाएगा। इसके साथ ही भरनो थाने की पुलिस भी मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम कराया। इसके बाद परिजन को शव सौंप दिया।

%d bloggers like this: