January 26, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण से 24 अगस्त तक मांगा बिना शर्त माफी नामा

नई दिल्ली:- सुप्रीम कोर्ट ने ट्वीट्स के मामले पर वकील प्रशांत भूषण को अपने बयान पर बिना शर्त माफीनामा देने के लिए 24 अगस्त तक का समय दिया है। जस्टिस अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि अगर माफीनामा दाखिल होता है तो इस मामले पर 25 अगस्त को सुनवाई होगी। सुनवाई के दौरान प्रशांत भूषण ने महात्मा गांधी के बयान का हवाला देते हुए कहा कि न मुझे दया चाहिए न मैं इसकी मांग कर रहा हूं। मैं कोई उदारता भी नहीं चाह रहा। कोर्ट जो भी सज़ा देगा मैं उसे सहर्ष लेने को तैयार हूं। सुनवाई के दौरान अटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने प्रशांत भूषण को सजा नहीं देने की मांग की लेकिन कोर्ट ने उसे खारिज कर दिया। सुनवाई के दौरान प्रशांत भूषण के वकील दुष्यंत दवे ने सजा पर बहस टालने की मांग की। उन्होंने दलील दी कि दोषी ठहराने के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर करना है। इसके लिए 30 दिन समय दिये जाने का प्रावधान है। तब जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि हम जो भी सज़ा तय करेंगे, उस पर अमल पुनर्विचार याचिका पर फैसले तक स्थगित रखा जा सकता है । जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि सजा पर बहस होने दीजिए। सजा सुनाये जाने के बाद हम तत्काल सजा लागू नहीं करेंगे। हम पुनर्विचार याचिका पर फैसले का इंतज़ार कर लेंगे। हमें लगता है कि आप इस बेंच को नजरअंदाज करना चाहते हैं। बता दें कि जस्टिस मिश्रा 2 सितंबर को रिटायर हो रहे हैं। जस्टिस गवई ने दुष्यंत दवे से कहा कि राजीव धवन ने तो 17 अगस्त को कहा था कि पुनर्विचार याचिका तैयार है तो आपने दायर क्यों नहीं की? दवे ने कहा कि पुनर्विचार याचिका मेरा अधिकार है। ऐसी कोई बाध्यता नहीं है कि मैं 24 घंटे के भीतर पुनर्विचार याचिका दायर करूं। पुनर्विचार याचिका दायर करने की अवधि 30 दिन है। दवे ने कहा कि अगर आप पुनर्विचार तक रुक जाएंगे तो आसमान नही गिर जाएगा । यह ज़रूरी नही यही बेंच पुनर्विचार याचिका सुने। तब जस्टिस गवई ने कहा कि वह सुनवाई नहीं टालेंगे। प्रशांत भूषण ने कहा कि मुझे यह सुनकर दुःख हुआ है कि मुझे अदालत की अवमानना का दोषी ठहराया गया है प्रशांत भूषण ने कहा कि मैं इस बात से दुखी नहीं हूं कि मुझे सजा हो सकती है बल्कि इस बात से दुखी हूं कि मुझे गलत समझा गया। प्रशांत भूषण ने कहा कि मेरा मानना है कि लोकतंत्र और इसके मूल्यों की रक्षा के लिए एक खुली आलोचना आवश्यक है मेरे ट्वीट्स मेरे कर्तव्यों का निर्वहन करने का प्रयास हैं, मेरे ट्वीट्स को संस्था की भलाई के लिए काम करने के प्रयास के रूप में देखा जाना चाहिए। राजीव धवन ने सवाल उठाते हुए कहा कि अगर न्यायपालिका में कोई भ्रष्टाचार होता है, तो हम इसे कैसे उजागर करना चाहिए। धवन ने कहा कि अपराध की प्रकृति क्या है, अपराध की प्रकृति कैसी है, यह भी देखा जाना चाहिए। राजीव धवन ने प्रशांत भूषण के बचाव में दलील देते हुए भूषण के अब तक के महत्वपूर्ण मामलों टू-जी, कॉल ब्लॉक आवंटन घोटाला, गोवा माइनिंग, केंद्रीय सतर्कता आयुक्त की नियुक्ति सभी मामलों में कोर्ट के सामने प्रशांत भूषण ही आये थे। सजा देते समय कोर्ट को प्रशांत भूषण के योगदान को देखना चाहिए। तब जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि हम ‘फेयर क्रिटिसिज्म’ के खिलाफ नहीं है। हम इसका स्वागत करते हैं। – मैंने अपने पूरे करियर में एक भी व्यक्ति को कोर्ट की अवमानना का दोषी नहीं ठहराया है। जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि संतुलन और संयम बहुत जरूरी है, आप सिस्टम का हिस्सा हैं। अधिक करने के उत्साह में, आपको लक्ष्मण रेखा को पार नहीं चाहिए, मिश्रा ने कहा अच्छे काम करने का स्वागत है। हम आपके अच्छे मामलों को दाखिल करने के प्रयासों की सराहना करते हैं। जस्टिस मिश्रा ने कहा कि यदि आप अपनी टिप्पणियों को संतुलित नहीं करते हैं, तो आप संस्था को नष्ट कर देंगे, हम अवमानना के लिए इतनी आसानी से दंड नहीं देते, हर बात के लिए लक्ष्मण रेखा है, आपको लक्ष्मण रेखा नही पार करनी चाहिए? प्रशांत भूषण ने कहा कि मेरे ट्वीट जिनके आधार पर अदालत की अवमानना का मामला माना गया है वो मेरी ड्यूटी हैं,इससे ज्यादा कुछ नही है।इसे संस्थानों को बेहतर बनाये जाने के प्रयास के रूप में देखा जाना चाहिए था।जो मैंने लिखा है वो मेरी निजी राय है,मेरा विश्वास और विचार है। ये विचार रखना मेरा अधिकार है। महात्मा गांधी के बयान का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि न मुझे दया चाहिए न मैं इसकी मांग कर रहा हूं। मैं कोई उदारता भी नहीं चाह रहा। कोर्ट जो भी सज़ा देगा मैं उसे सहस्र लेने को तैयार हूं। बेंच के जज जस्टिस गवई ने भूषण से पूछा कि क्या आपने कोर्ट में जो स्टेटमेंट दिया है क्या आप उसपर पुनर्विचार करने को तैयार हैं? हम आपको विचार के लिए समय दे सकते हैं। तब भूषण ने कहा कि मैंने बहुत सोच विचार कर बयान दिया है। अगर कोर्ट ऐसा चाहता है तो मैं अपने वकीलों से बात करुंगा। सुप्रीम कोर्ट ने प्रशांत भूषण से कहा कि क्या आप अपने कथन पर पुनर्विचार करना चाहते हैं। तब भूषण ने कहा कि नहीं। मैं इस पर पुनर्विचार नहीं करना चाहता। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि ठीक है। लेकिन कल आप यह मत कहिएगा कि हमने आपको वक़्त नहीं दिया। राजीव धवन ने कहा कि कोर्ट के लिए पिछले 6 साल बहुत मुश्किल रहे, वकीलों के लिए भी। एक दिन इतिहास इन वर्षों को बार-बार देखेगा। जस्टिस मिश्रा: हम ज्योतिषी नहीं हैं। यह भविष्य के लिए तय करना है धवन: बिल्कुल सही, यही तो भूषण ने ट्वीट किया था।

Recent Posts

%d bloggers like this: