अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

पुलिस अधीक्षक किशनगंज ने पर्व को लेकर दिया आवश्यक दिशा-निर्देश

किशनगंज 01 नवम्बर:- दीपावली बिहार राज्य में दीपावली (लक्ष्मी पूजा) उत्साह तथा उल्लास से हिन्दू धर्मावलंबियों के द्वारा मनायी जाती है। दिनांक 02.नवम्बर को धनतेरस तथा दिनांक 04 नवम्बर 2021 को दीपावली पर्व मनाया जायेगा। दीपावली पर्व की रात्रि में घरों में दीपश्रृंखला , कंदील तथा बिजली के बल्ब झालरों से सजावट की जाती है। कई स्थानों पर माता लक्ष्मी की प्रतिमा स्थापित की जाती है तथा पूजा के पंडाल भी लगाए जाते है। इसके मद्देनज़र पुलिस अधीक्षक किशनगंज ने पर्व को लेकर दिया सभी थाना क्षेत्र के पुलिस अधीकारी व पुलिस कर्मी को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया। एसपी ने कहा कि कोविड -19 का संक्रमण पूरी तरह से समाप्त नहीं हुआ है । वायरल फीवर का प्रसार राज्य में देखा जा रहा है। दीपावली पर्व के अवसर पर पूजा पंडालों, मन्दिरों , बाजारों तथा सार्वजनिक स्थलों पर भीड़-भाड़ रहेगी ऐसे में कोविड-19 के संक्रमण के बढ़ने की सम्भावना रहेगी। अतः सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देश का अनुपालन अपेक्षित होगा। धार्मिक स्थल का प्रबन्धन यह सुनिश्चित करेगा कि वहाँ आने वाले श्रद्धालुओं द्वारा सोशल डिस्टेन्सिंग तथा मॉस्क पहनने आदि से सम्बन्धित कोविड अनुकूल व्यवहार एवं अद्यतन मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) का अनिवार्य अनुपालन किया जाए।सार्वजनिक स्थलों पर किसी भी प्रकार का आयोजन जिला प्रशासन की पूर्वानुमति तथा कोविड अनुकूल व्यवहार एवं अद्यतन मानक प्रक्रिया (SOP) के अनिवार्य अनुपालन के साथ किया जा सकेगा । जिला प्रशासन को आयोजन में गणमान्य व्यक्तियों की अधिकतम संख्या के निर्धारण का अधिकार होगा। एसपी द्वारा दिया गया सख्त निर्देश में कहा गया है कि
इस पर्व पर विवादित स्थल पर प्रतिमा स्थापित करने, जबरदस्ती चन्दा वसूलने, दूसरे समुदाय के धार्मिक स्थलों के पास पटाखा फोड़ने, लाउडस्पीकर बजाने, उत्तेजक नारा लगाने तथा छेड़खानी को लेकर साम्प्रदायिक तनाव की घटनायें घटित होने तथा विधि-व्यवस्था की समस्या उत्पन्न होने की संभावना रहती है।
. पटाखे छोड़ने के कारण कहीं-कहीं आग भी लग जाती है। कई बार ऐसे भी दृष्टांत सामने आए है जब अपराधकर्मियों द्वारा पटाखों के शोरगुल में अपराध कारित किए जाते हैं ।
. विसर्जन जुलूसों के समुदाय विशेष के आबादी के क्षेत्र से गुजरने के क्रम में, मस्जिदों के नजदीक स्थित पंडालों में लाउडस्पीकर एवं तेज गाना बजाने (खासकर नमाज के दौरान), मुस्लिम आबादी वाले रास्ते तथा विवादित मार्ग से विसर्जन-जुलूस के गुजरने को लेकर विवाद की सम्भावना बनी रहती है। दीपावली पर्व पर कई लोग परम्परा स्वरुप जुआ खेलते है। कई स्थानों पर इस परम्परा का विकृत स्वरुप दिखता है। बड़े पैमाने पर द्युत क्रीडा का आयोजन कतिपय असामाजिक तत्वों के द्वारा किया जाता है। ऐसी द्युत क्रीडा में कभी-कभी अराजक स्थिति उत्पन्न हो जाती है। मारपीट, झंझट, झड़प तथा कभी-कभी हिंसा की घटना भी घटित होती है। इस पर निगरानी तथा कड़ी कार्रवाई अपेक्षित है।
सभी परिस्थितियों पर निगरानी/कार्रवाई करने का निर्देश सभी थानाध्यक्ष/ओ0पी0 अध्यक्ष/अंचल पुलिस निरीक्षक/पुलिस उपाधीक्षक(मु0)/अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी को दिया गया है।

संवाददाता : सुबोध

%d bloggers like this: