अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सुनील तिवारी ने अग्रिम जमानत के लिए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया


रांची:- दुष्कर्म और यौन शोषण के आरोपी पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी ने जमानत के लिए झारखंड हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। सुनील तिवारी ने अग्रिम जमानत के लिए अपने अधिवक्ता के माध्यम से हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है। उन्होंने कोर्ट से जमानत देने की गुहार लगाई है। याचिका में उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों को निराधार बताते हुए कोर्ट से अग्रिम जमानत देने की गुहार लगायी है।
दुष्कर्म और यौन शोषण के आरोपी पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी ने जमानत के लिए झारखंड हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. सुनील तिवारी ने अग्रिम जमानत के लिए अपने अधिवक्ता के माध्यम से हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है. उन्होंने कोर्ट से जमानत देने की गुहार लगाई है. याचिका में उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों को निराधार बताते हुए कोर्ट से अग्रिम जमानत देने की गुहार लगायी है.
जी जेपीएससी परीक्षा के कट ऑफ डेट का मामला देश की शीर्ष अदालत यानी कि सुप्रीम कोर्ट की दहलीज तक पहुंच गया है. हाईकोर्ट से याचिका खारिज होने के बाद 4 अभ्यर्थियों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाते हुए हाईकोर्ट की डबल बेंच के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देते हुए एसएलपी दायर की है.
कट ऑफ डेट को चुनौती देने वाली याचिका पर झारखण्ड हाईकोर्ट में सुनवाई हुई थी
बता दें कि 7जी जेपीएससी परीक्षा के कट ऑफ डेट को चुनौती देने वाली अपील याचिका पर झारखण्ड हाईकोर्ट में सुनवाई हुई थी. कोर्ट ने इस मामले से जुड़े सभी पक्षों को सुनने के बाद प्रार्थियों की याचिका को खारिज कर दिया था. हाईकोर्ट की डबल बेंच ने सिंगल बेंच के फैसले को बरकरार रखते हुए अपील याचिका को खारिज कर दिया था. याचिका खारिज होने से प्रार्थियों को बड़ा झटका लगा है. हाईकोर्ट में रीना कुमारी और अमित कुमार और अन्य की ओर से दायर अपील याचिका पर वरीय अधिवक्ता अजीत कुमार ने कोर्ट में पक्ष रखा था, जबकि राज्य सरकार की ओर से उपस्थित महाधिवक्ता राजीव रंजन एवं अधिवक्ता पीयूष चित्रेश ने और जेपीएससी की ओर से अधिवक्ता संजय पीपलवाल एवं प्रिंस कुमार ने अदालत में बहस की थी.

%d bloggers like this: