June 17, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सुदेश महतो ने निर्मल मिंज के निधन पर शोक जताया

रांची:- आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने कहा कि झारखंड आंदोलन के बौद्धिक अगुआ, थियोलॉजिकल कॉलेज के प्राचार्य व गोस्सनर कॉलेज के संस्थापक प्राचार्य रहे तथा एनडब्ल्यूजीइएल चर्च के प्रथम बिशप डॉ. निर्मल मिंज के निधन की खबर दुःखद है। डॉ. मिंज ने झारखंड की क्षेत्रीय भाषाओं के संरक्षण और विकास के लिए आजीवन कार्य किया। उनके निधन से बौद्धिक जगत को अपूरणीय क्षति हुई है। उनके द्वारा शिक्षा जगत एवं झारखंडी संस्कृति के लिए गए कार्यों को कभी भुलाया नहीं जा सकता। झारखंड एवं झारखंडी संस्कृति के प्रति उनकी श्रद्धा भक्ति सर्वविदित है।गोस्सनर कॉलेज के प्राचार्य के रुप में उन्होंने इतिहास में पहली बार झारखंड के आदिवासी और क्षेत्रीय भाषाओं की पढ़ाई शुरु करवाई।
जब आजसू ने अलग झारखंड के निर्माण के लिए पूरे राज्य में आंदोलन का बिगुल फूंका तब डॉ. मिंज ने बौद्धिक मार्गदर्शक के रुप में अपनी अहम भूमिका भी निभाई। साहित्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान देने के लिए उन्हें साहित्य अकादमी के भाषा सम्मान से भी नवाजा गया। साथ ही उन्होंने कहा कि झारखंड ने आज एक विभूति को खो दिया और झारखंड को उनकी कमी हमेशा खलेगी।
डॉ. निर्मल मिंज के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए आजसू पार्टी के केंद्रीय प्रवक्ता डॉ. देवशरण भगत ने कहा कि झारखंड राज्य के निर्माण में डॉ. निर्मल मिंज ने अहम भूमिका निभायी थी। 1980 के मध्य में उन्होंने झारखंड अलग राज्य निर्माण के लिए एक बौद्धिक मार्गदर्शक के रुप में आजसू के साथ कार्य करना शुरु किया था। वे झारखंड समन्वय समिति के सक्रिय सदस्य भी बने। उनके निधन से झारखंड ने एक महान चिंतक और राज्य के सच्चे हितैषी को खो दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि डॉ. मिंज के निधन से उन्हें व्यक्तिगत क्षति हुई है और उन्होंने एक अभिभावक खो दिया।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: