अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

स्पीकर ने स्वास्थ्य मंत्री को दी नसीहत, पहले विभागीय अधिकारियों से बात करें, सदन में सही उत्तर दें


रांची:- विधायक सरयू राय ने स्वास्थ्य मंत्री से फरवरी 2020 से जुलाई 2020 के बीच राज्य के सूचीबद्ध अस्पतालों के संबंध में जानकारी मांगी थी, जिन्हें मुख्यमंत्री गंभीर बीमारी उपचार योजना के तहत सूचीबद्ध किया गया है। उन्होंने कहा था कि उक्त अवधि में ब्रह्मानंद अस्पताल उक्त योजना के तहत सूचीबद्ध नहीं था। लेकिन उसे सरकार ने योजना का लाभ प्रदान कर दिया। इस मामले में सरयू राय स्वास्थ्य मंत्री के जवाब से संतुष्ट नहीं थे।
स्पीकर ने मंत्री को 21 दिसंबर को पुनः जवाब देने का निर्देश दिया था। आज जब सरयू ने दोबारा सवाल उठाया तो स्पीकर ने मंत्री से पूछा। स्वास्थ्य मंत्री ने स्वीकार कर लिया कि उन्होंने जो जवाब दिया था, वह भ्रामक था। इस पर स्पीकर ने बन्ना गुप्ता को नसीहत दी कि वह पहले विभागीय अधिकारियों से बात करें। उसके बाद ही सही उत्तर सदन में दें।
विधायक सरयू राय ने स्वास्थ्य मंत्री से फरवरी 2020 से जुलाई 2020 के बीच राज्य के उन सूचीबद्ध अस्पतालों के संबंध में जानकारी मांगी थी, जिन्हें मुख्यमंत्री गंभीर बीमारी उपचार योजना के तहत सूचीबद्ध किया गया है। इसमें ब्रह्मानंद नारायण अस्पताल तामोलिया भी शामिल है। मंत्री ने अपने जवाब में ब्रह्मानंद अस्पताल को उक्त योजना के तहत सूचीबद्ध बताया, जबकि राय ने उक्त अस्पताल के फरवरी 2020 से जुलाई 2020 के बीच सूचीबद्ध होने की जानकारी मांगी थी। उन्होंने कहा था कि उक्त अवधि में ब्रह्मानंद अस्पताल उक्त योजना के तहत सूचीबद्ध नहीं था लेकिन उसे सरकार ने योजना का लाभ प्रदान कर दिया। ऐसे में सरयू राय स्वास्थ्य मंत्री के सवाल से संतुष्ट नहीं थे।
इसपर विधानसभा स्पीकर ने स्वास्थ्य मंत्री को 21 दिसंबर को पुनः जवाब देने का निर्देश दिया था। मंगलवार को जब सरयू राय ने दोबारा सवाल उठाया तो स्पीकर ने स्वास्थ्य मंत्री से पूछा। जिसपर मंत्री ने स्वीकार कर लिया कि उन्होंने जो जवाब दिया था, वह भ्रामक था। इस पर स्पीकर ने बन्ना गुप्ता को नसीहत दे डाली कि वह पहले अपने विभागीय मंत्री अधिकारियों से बैठ कर बात करें, उसके बाद ही सही उत्तर सदन में दें। उन्होंने कहा कि विभागीय मंत्री को देखना चाहिए कि सदन में जो उत्तर दे रहे हैं, वह सही है कि नहीं।

%d bloggers like this: