अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

समाजसेवी व एसएन सिन्हा इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रो.एनपी सिंह का निधन


रांची:- प्रसिद्ध समाजसेवी,धुर्वा निवासी व एसएन सिन्हा इंस्टिट्यूट के डायरेक्टर 82 वर्षीय प्रो.एनपी सिंह का कल मेडिका अस्पताल में निधन हो गया। अपने पीछे चार पुत्र,चार पुत्री एवं भरा पूरा परिवार छोड़ गये हैं। धुर्वा सीटीओ मुक्ति धाम में आज अंतिम संस्कार कर दिया गया। उनके द्वितीय पुत्र समीर सिंह ने मुखाग्नि दी। प्रोफेसर एमपी सिंह वर्तमान में नेशनल लेबर ऑर्गेनाइजेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे, एचएससी ऑफिसर्स एसोसिएशन के निर्वाचित महासचिव भी रहे, ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ मैनेजर एसोसिएशन के सचिव थे, इंटक के राष्ट्रीय इकाई के मनोनीत सचिव के रूप में,साथ ही उन्होंने कई सामाजिक संगठन जैसे रोटरी इंटरनेशनल,महाराणा प्रताप फाउंडेशन, एचईसी नागरिक परिषद,झारखंड किसान मजदूर महासंघ के अध्यक्ष से भी जुड़े रहे।प्रो.सिंह वाईएमसीए धुर्वा उ के बहुत वर्षों तक अध्यक्ष के रूप में आसीन रहे तथा इस दौरान इन्होंने बांग्लादेश का भी दौरा किया। इनकी अंतिम इच्छा सत्येंद्र नारायण सिन्हा इन्सटीच्युठ आफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी महाविद्यालय की स्थापना करने की थी जिसके लिए वे लगातार प्रयासरत भी थे।
झारखंड सरकार में वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उराँव,प्रदेश कांग्रेस कमिटी के वरिष्ठ नेता आलोक कुमार दूबे,लाल किशोर नाथ शाहदेव, डा.राजेश गुप्ता छोटू,विनीता पाठक नायक,फिरोज रिजवी मुन्ना सहित कई सामाजिक एवं राजनीतिक नेताओं ने उनके निधन पर गहरी संवेदना एवं दुख प्रकट किया है। डा.रामेश्वर उराँव ने कहा प्रो.सिन्हा मेरे अच्छे और अंतरंग मित्र थे,उनके निधन से मुझे व्यक्तिगत क्षति हुई है, एक शिक्षाविद के रूप में इन्होंने राज्य में कई शैक्षणिक संस्थानों की स्थापना की एवं उससे जुड़ कर राज्य के दबे, कुचले, गरीब, शोषित लोगों को पढ़ने का वसर दिया,उनके निधन से राज्य ने एक शिक्षाविद एवं बौद्धिक विचारक खो दिया है।
झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के वरिष्ठ नेता आलोकप कुमार दूबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव एवं डा. राजेश गुप्ता छोटू ने उनके निधन पर गहरी संवेदना एवं दुख प्रकट किया। नेताओं ने कहा एचईसी के पुनरुत्थान हेतू लगातार वह प्रयासरत रहते थे, और यही वजह है कि केंद्र सरकार द्वारा उसके पुनरुद्धार हेतु गठित समिति में इन्हें विशेष तौर पर रखा गया था,अपने अंतिम समय में भी यह लगातार एचएससी की प्रगति और विकास के लिए चिंतित दिखाई दिया करते थे।

%d bloggers like this: