May 13, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

संताली विधि विधान के साथ सरहुल पर्व मनाया गया

साहिबगंज:- प्रकृति पर्यावरण परंपरा व संस्कृति का पर्व सरहुल व वीर योद्धा सिदो कान्हू के जंयती सहित 43 वें संताली साहित्य दिवस कोविड 19 का प्रोटोकॉल का पालन करते पूरे संताली विधि विधान से मनाया गया। छात्र नेता जितेंद्र मरांडी ने कहा कि महाविध्यालय में संताली साहित्य एकेडमी व
संताली साहित्य पुस्तक पत्रिका के लिए संताली साहित्य के सम्वर्धन के लिए सकल्प लें। किसी भी राष्ट्र या समाज का साहित्य दर्पण होता है। अपनी मातृभाषा के साथ साथ अन्य भाषा हो उससे समन्वय स्थापित करें। हमें अपने पर्व, परंपरा, सभ्यता,संस्कृति व भाषा पर गर्व करने का दिन है ।
डॉ रणजीत कुमार सिंह केंद्राधीक्षक सह पूर्व सिंडिकेट सदस्य ने बताया कि11 अप्रैल 2021 को साहिबगंज महाविद्यालय परिसर में संताली साहित्य दिवस और बाहर सरहुल पर्व मनाया गया है ।
वाहा सरहुल पर्व संताल आदिवासियों का पवित्र पर्व है। पानी लगाकर एक दूसरे को पवित्र किया जाता है। उपस्थित जितेंद्र मरांडी, लक्ष्मण मुर्मू, चंदन ,हरिदास हांसदा मोहन अनीता मेरी रीना जूली मनीषा पर्व का पूजा जाहेर स्थान में धार्मिक पुजारी नायकी जीतलाल मुर्मू को आम नाइटी सोने लाल मरांडी जोग माझी के द्वारा जाहिर अरोरा मारो करो गोसाई तेरा मोरे को तरुण के नाम पर सखुवा का फूल चढ़ाया जाता है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: