June 17, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

शिव नारायण जायसवाल ने देश की आजादी की लड़ाई में बढ़चढ़ कर लिया हिस्सा

रांची:- राजधानी रांची के प्रथम मेयर एवं प्रतिष्ठित व्यवसायी, कांग्रेस नेता शिव नारायण जायसवाल का जन्म सन 1926 ई. में हुआ था. देश की आजादी में भी शिवनारायण जायसवाल का भी योगदान रहा है. वह हमेशा कांग्रेस पार्टी के साथ जुड़कर देश एवं पार्टी की सेवा में लगे रहे थे.
उत्तर प्रदेश जमालपुर के राजपरिवार में जन्मे शिव नारायण जायसवाल की पढ़ाई लिखाई बिशप स्कॉट से हुआ था. वे सीनियर कैम्ब्रिज पास हुए थे। अंग्रेजी पाॅलीसी में इतनी पकड़ थी कि उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, उड़ीसा की सरकार भी पॉलिसी के बारे में इनसे सलाह लेती थी।
शिवनारायण जायसवाल की सोच काफी दूरदर्शिता थी, झारखंड को इंडस्ट्रियल हब बनाना सपना था। उन्होंने अपने बलबूते से सैकड़ों मंदिर बनाए थे। साथ ही बेहतर शिक्षा लोगों को मिले इसके लिए स्कूल-कॉलेज बनाएं तथा लोगों की स्वास्थ्य को देखते हुए अस्पताल भी बनाएं। शिव नारायण जायसवाल अपने दोनों हाथों से सामाजिक, धार्मिक, राजनीतिक कार्यक्रमों में सहयोग एवं दान देते थे। रांची कोकर डिस्टलरी स्थित भगवान बिरसा मुंडा समाधि का जमीन इन्होंने ही दान में दिया है। इस तरह रांची सहित पूरे झारखंड में अनेकों सामाजिक कार्य किए, इनके कुशल व्यक्तित्व एवं कार्यो के कारण लोग युगों युगों तक याद रखेंगे।
शिव नारायण जसवाल इतने अधिक लोकप्रिय थे कि सन 1940 ईस्वी में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी रामगढ़ कांग्रेस अधिवेशन के दौरान उनके कोकर स्थित आवास पर आए और उनके साथ खाना-पीना करके उन्हीं के फोर्ड गाड़ी में सवार होकर रामगढ़ कांग्रेस अधिवेशन कार्यक्रम में शामिल हुए थे।
अंग्रेजी शासन में भी अपने देश के प्रति बहुत प्रेम था, इनका लगाव सबों के साथ अच्छा था, अंग्रेजों ने भी खुश होकर शिव नारायण जायसवाल को राजा की उपाधि दी थी। वहीं महात्मा गांधी जी भी इन्हें ताम्र पत्र दिया था।
शिवनारायण जायसवाल का बिहार के मुख्यमंत्री के बी सहाय, कांग्रेस के नेता दिग्विजय सिंह, अर्जुन सिंह आदि वरिष्ठ नेताओं के साथ काफी अच्छा घनिष्ठ संबंध था।
शिवनारायण जायसवाल ने एक हेलीकॉप्टर कांग्रेस पार्टी के चुनाव कैंपेन के लिए खरीदा था, जिसका उपयोग बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री केबी सहाय उस समय करते थे।
चार राज्यों में उनके बिना कोई भी महत्वपूर्ण फैसला सरकार नहीं लेती थी। सरकार बनाने एवं बिगाड़ने में उनकी जबरदस्त भूमिका रहती थी।
शिवनारायण जयसवाल राजधानी रांची में कई महत्वपूर्ण कार्य मेयर के पद पर रखकर किए। पुराना नगर निगम भवन चेंबर ऑफ कॉमर्स की पहली मीटिंग में शामिल हुए रांची टाउन हॉल पहला पैड शौचालय जयपाल सिंह स्टेडियम , 3000 शहर में स्ट्रीट लाइट रोटरी क्लब के चैप्टर मेंबर के रूप में शहर में योगदान रेन वाटर हार्वेस्टिंग की शुरुआत किया था।
इसके अलावा रांची, लखीसराय, उज्जैन, भोपाल, यूपी, बिहार, उड़ीसा, मध्य प्रदेश आदि जगहों पर डिस्टलरी प्लांट चलाते थे तथा लोगों के रोजगार सृजन के क्षेत्र में काम करते थे। सन 1962 से 1976 तक रांची के मेयर रहे तथा उस कार्यकाल के दौरान रांची में कई महत्वपूर्ण कार्य किए।
शिवनारायण जायसवाल का जन्म 1926 में हुआ, उन्होंने 96 वर्ष तक अपना सुखद जीवन राजशाही अंदाज में जिये, शिवनारायण जायसवाल का 5 पुत्र एवं तीन पुत्री है, पहला पुत्र मनोरंजन जायसवाल एवं पहला सुपौत्र आदित्य विक्रम जयसवाल हैं, जो प्रदेश कांग्रेस के सक्रिय नेता के रूप में राजधानी रांची में सेवक के तौर पर कार्य कर रहे हैं।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: