अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

रूस दे रहा म्‍यांमार के सैन्‍य शासन का साथ, संबंध मजबूत करने के पक्ष में मास्को

मास्को:- म्यांमार में लोकतांत्रिक सरकार को अपदस्थ कर सैन्य शासन लागू होने के बाद से कड़ी आलोचनाओं का सामना करने वाले शासन को रूस के रूप में साथ और उम्मीद की किरण दिखने लगी है। ताजा घटनाक्रम के अनुसार रूस ने म्यांमार के साथ सैन्य संबंधों को मजबूत करने को लेकर प्रतिबद्धता दिखाई है। जानकारी के अनुसार रूसी रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु ने म्यांमार के बारे में कहा कि हम दोनों देशों के बीच स्थापित आपसी समझ, सम्मान और विश्वास के आधार पर द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के अपने प्रयासों को जारी रखने के लिए हमेशा से तैयार हैं। दरअसल, म्यांमार के जुंटा नेता सीनियर जनरल मिन आंग हलिंग इस सप्ताह एक सुरक्षा सम्मेलन में भाग लेने के लिए राजधानी मास्को में मौजूद थे। हलिंग ने सोमवार को रूसी राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रमुख निकोलाई पेट्रोसोव से मुलाकात की थी। जिसके बाद जारी एक बयान में कहा गया कि, दोनों देशों ने आतंकवाद, क्षेत्रीय सुरक्षा और म्यांमार के आंतरिक मामलों में विदेशी हस्तक्षेप से जुड़े मुद्दों पर चर्चा की है। मौजूदा दौर में जुंटा मदद के लिए रूस की तरफ देख रहा है। वहीं रूस, म्यांमार की सेना को हथियारों का प्रमुख आपूर्तिकर्ता है। वहीं, मानव अधिकार कार्यकर्ताओं ने मास्को पर म्यांमार के सैन्य जुंटा को वैध बनाने का आरोप लगाया है, जो कि द्विपक्षीय यात्राओं और हथियारों के सौदों को जारी रखते हुए बीती एक फरवरी को करीब एक दशक के बाद फिर से सत्ता में आया था। दोनों देशों के बीच रक्षा संबंध हाल के वर्षों में बढ़े हैं, क्योंकि मास्को ने हजारों सैनिकों को सेना प्रशिक्षण और विश्वविद्यालय छात्रवृत्ति प्रदान की है। साथ ही कई पश्चिमी देशों द्वारा ब्लैकलिस्ट की गई म्यांमार की सेना को हथियार भी बेचे हैं।

%d bloggers like this: