अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

लोगों का सरकार में भरोसा लौटाना सबसे बड़ी उपलब्धि : शाह


नयी दिल्ली:- केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि पिछले सात वर्षों में सरकार, लोकतंत्र, बहुपक्षीय लोकतांत्रिक प्रणाली और संसदीय लोकतांत्रिक प्रणाली पर लोगों का खोया भरोसा बढाना मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि है। श्री शाह ने शुक्रवार को यहां भारतीय उद्योग एवं वाणिज्य महासंघ (फिक्की) की 94 वीं वार्षिक आम सभा को संबोधित करते हुए कहा कि 2014 से पहले तीन दशकों तक देश में पूर्ण बहुमत की सरकार नहीं थी और उनके द्वारा निर्णय नहीं लिए जाने से यह लग रहा था कि सरकार में नीतिगत पंगुता आ गयी है। उन्होंने कहा , “ 30 सालों तक देश ने पूर्ण बहुमत की और निर्णायक सरकार नहीं देखी थी और सब मानते थे कि सरकार को पॉलिसी पैरालिसिस हो गया था। निवेशकों का भरोसा उठ गया था, क्रोनी कैपिटलिज़्म चरम पर था, मंहगाई आसमान छू रही थी, ईज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस में हम दूर-दूर तक कहीं नहीं थे, बैंकिंग व्यवस्था चरमराई हुई थी और इसके साथ 12 लाख करोड़ के घपले, घोटाले और भ्रष्टाचार से पूरी व्यवस्था चरमरा गई थी और देश की जनता का सरकार पर से भरोसा उठ चुका था।” उन्होंने कहा कि सरकार का संवैधानिक कार्यकाल पांच साल का होता है लेकिन जब सरकार लोगों का भरोसा खो देती है, तब सरकार की आत्मा नहीं रहती है और जिस सरकार की आत्मा नहीं होती है, वो सरकार फ़ैसले नहीं ले सकती है और परिवर्तन नहीं कर सकती है। श्री शाह ने कहा कि पिछले सात वर्षों में मोदी सरकार ने लोगों के भरोसे को बढाने में सफलता हासिल की है। उन्होंने कहा, “ सात साल पहले जो लोगों का भरोसा सरकार पर से उठ गया था, वो अब बढ़ा है और 130 करोड़ लोगों का लोकतंत्र, बहुपक्षीय लोकतांत्रिक प्रणाली व संसदीय लोकतांत्रिक प्रणाली पर भरोसा बढ़ाना नरेन्द्र मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि है।” उन्होंने कहा कि सरकार की दूसरी सबसे बड़ी उपलब्धि है कि उसकी नीतियों से अर्थतंत्र का दायरा बढा है। देश के 60 करोड़ लोग ऐसे थे जिनके पूरे परिवार में एक भी बैंक खाता नहीं था। “ लोगों को नीतियों में अपना हित ही नहीं पता था, आज़ादी के बाद उन्हें क्या मिला इसका आभास नहीं था। प्रधानमंत्री ने इन 60 करोड़ लोगों को देश के अर्थतंत्र के साथ जोड़कर न सिर्फ उन्हें उनका अधिकार दिया बल्कि देश के विकास के साथ जोड़ने का भी काम किया।”
श्री शाह ने कहा कि मोदी सरकार के सात वर्षों के कार्यकाल का मूल्यांकन करने वाले यह जरूर मानेंगे कि देश में परिवर्तन तो आया है। उन्होंने कहा , “ आलोचकों को भी ये स्वीकार करना होगा कि सात सालों में बहुत परिवर्तन आया है, इस सरकार पर कोई भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा है, आपको फ़ैसला ग़लत लग सकता है लेकिन नीयत ग़लत हो, ये कोई नहीं कह सकता। हर क्षेत्र में स्टेकहोल्डर्स के साथ पर्याप्त विचार-विमर्श के बाद नई नीतियां बनी हैं और इन नीतियों के कारण आज देश में एक नया आत्मविश्वास जगा है।”
सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि 60 करोड़ लोगों के पूरे स्वास्थ्य का ख़र्च नरेन्द्र मोदी सरकार उठा रही है, हर घर में शौचालय पहुंचा है, 2022 तक हर व्यक्ति को घर देने का काम हम कर रहे हैं, हर घर में बिजली पहुंचाई गयी है और इन सबसे लोगों के जीवन में परिवर्तन आया है। साठ करोड़ लोगों में सम्मान से जीने का भरोसा पैदा करने का काम, लोकतंत्र में भरोसा पैदा करने का काम प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने किया है। ”
उन्होंने कहा कि सरकार ने आत्मनिर्भर भारत पैकेज 1, 2 और 3 के अंतर्गत कई काम किए हैं और इसी
कारण भारतीय अर्थतंत्र दुनिया में कोरोना के प्रभाव से सबसे तेज़ी से उबरने वाला है। उन्होंने कहा, “ इसी दौरान कई फ़ैसले लिए गए, पीएलआई स्कीम 13 क्षेत्रों में आई जिसके तहत लगभग 2 लाख करोड़ के प्रोत्साहन दिए गए, माइनिंग में कई सुधार किए, नेशनल एसेट्स रिकंस्ट्रक्शन्स कंपनी की स्थापना हुई, नेशनल एसेट्स मॉनेटाइज़ेशन पाइपलाइन की घोषणा की गई, रेट्रोस्पेक्टिव टैक्स को समाप्त कर दिया गया, दूरसंचार के क्षेत्र में भी पैकेज दिया गया, रक्षा क्षेत्र में एफ़डीआई को बढ़ाया गया, पीपीपी मॉडल पर एयरपोर्ट बनाने का काम हो रहा है, प्रत्येक मंत्रालय में प्रोजेक्ट डेवलपमेंट सेल बनाया गया,अंतरिक्ष क्षेत्र में निजी कंपनियों की भागीदारी सुनिश्चित की गई, ड्रोन के लिए पॉलिसी लाई गई, 200 करोड़ रूपए तक की सरकारी ख़रीद में ग्लोबल टेंडरिंग को समाप्त किया जिससे भारतीय कंपनियों को ही ये टेंडर मिल पाएगा।” उन्होंने दावा किया कि वर्ष 2022 में भारत विश्व की सबसे तेज़ बढ़ती अर्थव्यवस्था होगा। श्री शाह ने कहा कि सात वर्षो में सरकार ने देश की वर्षों पुरानी समस्याओं का समाधान किया है। उन्होंने कहा, “ 2019 में जब सरकार बनी तब किसने सोचा था कि सरकार धारा 370 हटाएगी और देखते देखते बिना खून बहे कश्मीर से धारा 370 को समाप्त करने का काम मोदी सरकार ने किया। सशस्त्र सेनाओं के आधुनिकीकरण और दुनिया के समकक्ष लाने के लिए कई फ़ैसले लिए, आज बहुत कम क्षेत्र वामपंथी उग्रवाद से ग्रसित बचा है।”
उन्होंने कहा कि प्रत्येक भारतीय को भारत को दुनिया में प्रथम स्थान पर ले जाने का संकल्प लेना चाहिए।
“ जब आज़ादी की शताब्दी होगी तब भारत दुनिया में बहुत ऊंचे स्थान पर होगा, क्योंकि जो नींव अब मोदी जी ने डाली है उस पर बहुत बड़ी इमारत बनेगी।” श्री शाह ने कहा कि कोई क्षेत्र ऐसा नहीं है जहां सात सालों में आमूलचूल परिवर्तन नहीं हुआ है। सरकार ने पांच साल में ही पचास से ज़्यादा युगपरिवर्तनकारी फ़ैसले लिए हैं। उन्होंने कहा कि फिक्की जैसी संस्थाओं को नीतिगत फैसले के अनुसार अनुसंधान एवं विकास में पूंजीगत निवेश बढ़ाने के प्रयास करने चाहिए। कोरोना काल में मोदी जी के नीतिगत निर्णयों के कारण भारत महामारी के प्रभाव से दुनिया में सबसे पहले उभरा।

%d bloggers like this: