अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

मदनमोहन की 97वीं जन्मदिन पर याद आया कर्णप्रिय गानों को दिए धुन

मेघदूत रेडियो लिशनर्स क्लब बेरमो की ओर से उन्हें दी गई ऑनलाइन विनम्र श्रद्धांजलि

बोकारो:- भारतीय फिल्म उधोग के जानेमाने संगीतकार दिवंगत मदनमोहन अपनी 97 वीं जन्मदिन पर याद किये गये। मेघदूत रेडियो लिशनर्स क्लब बेरमो की ओर से उन्हें ऑनलाइन विनम्र श्रद्धांजलि दी गई।
लिशनर्स क्लब के अध्यक्ष मनजीत छाबड़ा, बीनू छाबड़ा, नैनु छाबड़ा लुधियाना से, बेरमो से उपाध्यक्ष अजित जयसवाल, अनिल पाल, उमेश घायल, अशोक जैन, गुजरात से चांदनी पटेल, रांची से नौशाद परवाना, महाराष्ट्र से सुनैना, धनबाद से रामचन्द्र गुप्ता, लखीसराय से गुलशन आदि क्लब के सदस्यों ने 25 जून को उन्हें ऑनलाइन वर्चुअल सभा से जुड़कर श्रद्धांजलि दी। मौके पर उपाध्यक्ष अजित जयसवाल ने दिवंगत संगीतकार मदनमोहन द्वारा स्वरबद्ध किये गये फ़िल्म ‘आंखे, वह कौन थी, अनपढ़, मेरा साया, दुल्हन एक रात की, चिराग, हकीकत, चित्रलेखा, नींद हमारी ख्वाब तुम्हारे, देख कबीरा रोया, हस्ते जख्म आदि लोकप्रिय फिल्मों का जिक्र किया।
फ़िल्म ‘मेरा साया में अभिनेत्री साधना के नृत्य पर ‘झुमका गिरा रे’ फ़िल्म ‘चिराग’ में तेरी आंखों के सिवा दुनियां में रखा क्या है, फ़िल्म नींद हमारी ख्वाब तुम्हारे’ में कभी तेरा दामन न छोड़ेंगे हम, फ़िल्म-हकीकत में ‘कर चलें हम फिदा जान-ए-तन साथियों, फ़िल्म-हस्ते-जख्म में तुम जो मिल गए हो, तो लगता है कि जहां मिल गया….आदि गानों को संगीत प्रेमी खूब गुनगुनाते रहे।

%d bloggers like this: