March 1, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

PM मोदी के बयान पर बोले राकेश टिकैत – हम तिरंगे का नहीं करने देंगे अपमान, इसे हमेशा रखेंगे ऊंचा

नयी दिल्ली:- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज 26 जनवरी को लालकिले पर हुई हुई हिंसा का जिक्र करते हुए दुख जताया। मोदी की इस टिप्पणी का भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने जवाब देते हुए कहा कि क्या तिरंगा सिर्फ प्रधानमंत्री का है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सारा देश तिरंगे से प्यार करता है, जिसने अपमान किया है उसको पकड़ा जाए।

किसानों के आत्म-सम्मान की रक्षा करे सरकार: टिकैत

नरेश टिकैत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जो कहा, हम उसका सम्मान करते हैं, उनकी गरिमा की रक्षा की जाएगी। हम नहीं चाहते कि सरकार या संसद हमारे आगे झुके, लेकिन वह किसानों के आत्म-सम्मान की भी रक्षा करें। उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को हुई हिंसा षड्यंत्र का परिणाम थी, इसकी समग्र जांच होनी चाहिए। टिकैत ने कहा कि हम किसी को तिरंगे का अपमान नहीं करने देंगे, इसे हमेशा ऊंचा रखेंगे। सरकार को हमारे लोगों को रिहा करना चाहिए और वार्ता के लिए मंच तैयार करना चाहिए। हमें उम्मीद है कि बीच का कोई रास्ता निकलेगा।
आने वाले समय को नई आशा से भरा: पीएम मोदी
दरअसल पीएम मोदी ने रविवार को कहा कि 26 जनवरी को लालकिले पर तिरंगें के अपमान से समस्त देश बहुत दुखी हुआ लेकिन हमें आने वाले समय को नयी आशा और नवीनता से भरना है। उन्होंने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि वर्ष 2021 कई नयी शुरूआत हुई लेकिन दिल्ली में, 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देख, देश, बहुत दुखी भी हुआ। प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें आने वाले समय को नई आशा और नवीनता से भरना है। हमने पिछले साल असाधारण संयम और साहस का परिचय दिया। इस साल भी हमें कड़ी मेहनत करके अपने संकल्पों को सिद्ध करना है। अपने देश को, और तेज गति से, आगे ले जाना है। उन्होंने कहा कि इस महीने, क्रिकेट पिच से भी बहुत अच्छी खबर मिली। हमारी क्रिकेट टीम ने शुरुआती दिक्कतों के बाद, शानदार वापसी करते हुए ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती। हमारे खिलाड़ियों की कड़ी मेहनत और आपसी सहयोग प्रेरित करने वाला है।

ट्रैक्टर परेड के दाैरान हुआ था बवाल

गौरतलब है कि केंद्र के नए कृषि कानूनों को रद्द करने की अपनी मांग के समर्थन में किसान संगठनों की ‘ट्रैक्टर परेड’ के दौरान प्रदर्शनकारी किसानों की पुलिस के साथ झड़प हुई थी। अनेक प्रदर्शनकारी ट्रैक्टर चलाते हुए लालकिला परिसर पहुंच गए थे, जबकि उनमें से कुछ ने इस ऐतिहासिक स्मारक के गुंबदों और उस प्राचीर पर धार्मिक झंडा लगा दिया था, जहां देश के प्रधानमंत्री स्वतंत्रता दिवस पर ध्वाजारोहण करते हैं।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: