January 28, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बारिश बनी मुसीबत, बिजली आपूर्ति चरमराई, पेड़ व टहनियां गिरने से सड़क आवागमन बाधित

रांची:- झारखंड की राजधानी रांची समेत राज्य के अधिकांश हिस्सों में पिछले 24 घंटे से रूक-रूक कर हो रही लगातार बारिश से सामान्य जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित हुआ है। बिजली आपूर्ति व्यवस्था चरमरा गयी है। पेड़ और टहनिया गिरने से सड़क आवागमन बाधित हुई है।
रांची स्थित भारतीय मौसम विज्ञान केंद्र के वरीय वैज्ञानिक अभिषेक आनंद ने बताया कि बंगाल की खाड़ी और ओडिशा के तटीय इलाको में निम्न दबाव के कारण झारखंड पर मजबूत सिस्टम बना हुआ है, 23 अगस्त को भी बंगाल की खाड़ी में एक और निम्न दबाव का क्षेत्र बन रहा है, जिससे राज्य के अधिकांश इलाकों में बारिश होगी।
इस मॉनसून सीजन में पहली बार ऐसा देखने को मिला, जब 24घंटे में सभी जिलों में बारिश हुई। रूक-रूककर लगातार हो रही बारिश से राजधानी के कई निचले इलाकों में पानी भर गया। घरों में पानी घुसने के कारण लोग देर रात तक पानी निकालने में जुटे रहे। सड़कों पर घंटों जल जमाव रहा। शहर में कई स्थानों पर बिजली का पेड़ उखड़ कर और टहनियां टूट कर गिरने से सड़क आवागमन भी बाधित हुआ है। वहीं शहर के विभिन्न इलाकों में घंटों बिजली आपूर्ति व्यवस्था बाधित रही।
दूसरी तरफ इस बारिश से राजधानी रांची के तीनों डैमों का जलस्तर भी बढ़ा है, जिससे गर्मी के दिनों में निर्बाध बिजली आपूर्ति के आसार बने है। गोंदा (कांके) में 12 दिन बाद शुक्रवार को दूसरी बार गेट खोला गया है। डैम का जलस्तर 28 फीट होने में महज 7 इंच पानी भरना बाकी है। वहीं हटिया डैम के वाटर लेबल में 2.2 फीट की बढ़ोतरी दर्ज की गयी है। 20 अगस्त को डैम का लेबल जहां पर 21.4 पर था जो 21 अगस्त को बढ़कर 23.6 फीट पर पहुंच गया है। गेतलसूद (रूक्का) डैम का भी लेबल 24 घंटे में बढ़ा है। 20 अगस्त को जहां डैम का लेबल 29.3 पर था जो 21 अगस्त को बढ़कर 30.8 पर पहुंच गया है।

Recent Posts

%d bloggers like this: