February 28, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

रेलवे ने बेगूसराय के ‘सुधा’ को पहुंचाया असम, गुवाहाटी में शुरू हो गई बिक्री

39b5ec0a335ed8d45bc546a45da38f8_1

बेगूसराय:- बिहार के डेनमार्क के नाम से चर्चित बेगूसराय के पशुपालकों का ‘सुधा’ दूध ना केवल बिहार के कई शहरों की दूध आपूर्ति को पूरा कर रहा है बल्कि, झारखंड से लेकर असम तक के लोगों को यहां का शुद्ध दूध मिलने लगा है। नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड (एनडीडीबी) के प्रयास से देशरत्न डॉ. राजेंद्र प्रसाद दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड (बरौनी डेयरी) द्वारा झारखंड के बाद अब असम के गुवाहाटी तक रेलवे के माध्यम से दूध भेजा जा रहा है। फिलहाल सप्ताह में दो दिन बुधवार और शुक्रवार को नई दिल्ली-गुवाहाटी स्पेशल ट्रेन में एनडीडीबी के टैंकर से 46 हजार लीटर दूध भेजा जा रहा है। बरौनी डेयरी के प्रबंध निदेशक सुनील रंजन मिश्रा ने बताया कि बिहार के दुग्ध उद्योग के उत्तरोत्तर प्रगति के लिए यह सेवा मील का पत्थर साबित होगा। रेल टैंकर से दूध परिवहन से जहां संघ को आर्थिक रूप से फायदा होगा। वहीं, न्यूनतम समय में उच्च गुणवत्ता का दूध गुवाहाटी भेजने से सुधा ब्रांड के प्रति लोगों की विश्वसनीयता और बढ़ेगी तथा पूर्वोत्तर भारत में भी सुधा के विस्तार में मदद मिलेगी। जबकि पहले से ही 05028 मौर्य एक्सप्रेस एवं 08182 छपरा-टाटा एक्सप्रेस से बरौनी डेयरी का दूध राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड के टैंकर के माध्यम से हटिया एवं टाटानगर जा रहा है। उन्होंने बताया कि उच्च गुणवत्ता का अधिक से अधिक दूध पड़ोसी राज्य में बिक्री होने से संघ और इससे जुड़े 1202 गांव के एक लाख 75 हजार से अधिक किसानों को आर्थिक रूप से फायदा होगा। यह पशुपालक किसानों की आय और आत्मविश्वास को बढ़ावा देने का जरिया साबित होगा। पशुपालकों की मेहनत का उचित मूल्य और सर्वोत्तम बाजार मिले इसके लिए नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड ने भारतीय रेल के सहयोग से यह पहल किया है। जो किसानों को नई बाजार से जोड़कर उनकी आय में वृद्धि करेगी। नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड एवं सोनपुर रेल मंडल के बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट के सार्थक प्रयास से यह बेहतरीन पहल किया गया है। उल्लेखनीय है कि लॉकडाउन के दौरान अगस्त में केंद्र सरकार की पहल पर बरौनी डेयरी से झारखंड दूध भेजने के लिए देश का दूसरा किसान स्पेशल ट्रेन चलाया गया था। इस किसान स्पेशल ट्रेन ने बरौनी डेयरी से एक-एक दिन के अंतराल पर राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड द्वारा विकसित चार टैंकर में चालीस-चालीस हजार लीटर दूध लेकर तीव्र गति से पड़ोसी राज्य झारखंड के टाटानगर तक पहुंचाया गया।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: