June 18, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

बच्चों को प्रभावी एवं गुणवत्तायुक्त डिजिटल कंटेंट उपलब्ध कराना हो प्राथमिकताः- मंजूनाथ भजंत्री

देवघर:- कोरोना संक्रमण के मद्देनजर सरकारी स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ करने के उद्देश्य से उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री के निर्देशानुसार जिला कार्यक्रम पदाधिकारी द्वारा जिले के सभी कोटि के विद्यालय प्रधानाध्यापकों व प्रभारी प्रधानाध्यापकों, प्रखंड पदाधिकारियों, प्रखंड व संकुल साधन सेवियों के साथ ऑनलाइन बैठक का आयोजन किया गया।
ऑनलाइन बैठक के दौरान सभी को जानकारी दी गई कि कोरोना के दुसरे लहर के कारण शिक्षा विभाग द्वारा डिजी साथ 2.0 कार्यक्रम की शुरुआत की गई है जो कि पिछले साल संचालित कार्यक्रम का ही संवर्द्धित रूप है। ऐसे में इस वर्ष बच्चों को प्रभावी एवं गुणवत्तायुक्त डिजिटल कंटेंट के माध्यम से शैक्षिक सहयोग उपलब्ध कराने के उद्देश्य से कक्षावार व्हाट्सएप ग्रुप 13 मई तक बनाने का निर्देश सभी को दिया गया। साथ ही राज्य से प्राप्त निर्देशों के आलोक में प्रमोटेड बच्चों को अगली कक्षा में नामांकित करते हुए उन्हें व्हाट्सएप ग्रुप से जोड़कर डिजिटल कंटेंट उपलब्ध कराने के अलावा शिक्षकों को प्रत्येक दिन 10 बच्चों एवं अभिभावकों से संपर्क कर फीडबैक लेना एवं शैक्षिक परामर्श देना का निर्देश सभी शिक्षकों को दिया गया।
इसके अलावे बैठक के दौरान परिमल फाउंडेशन के सुजीत कुमार द्वारा जानकारी दी गई की देवघर में 1975 स्कूल में से 716 स्कूलों के द्वारा ही प्रधानाध्यापकों द्वारा भरे जाने वाले पुष्टिकरण फॉर्म के माध्यम से राज्य को रिपोर्टिंग किया जा रहा है जिससे पता चलता है कि देवघर जिला में 371 स्कूलों के द्वारा ही कक्षावार व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया है। साथ ही इस संदर्भ में उन्होंने कहा कि प्रधानाध्यापक स्कुल स्तर पर शिक्षकों के साथ ऑनलाइन बैठक कर रणनीति तैयार करें एवं 13 मई तक हर हाल में जिले के सभी विद्यालयों के द्वारा कक्षावार व्हाट्सएप ग्रुप बनाना सुनिश्चित करें। साथ ही प्रखंडों के प्रदर्शन के आधार पर बताया कि कक्षावार व्हाट्सएप ग्रुप बनाने के मामले में देवीपुर-15प्रतिशत, देवघर-13प्रतिशत और कैरों-12प्रतिशत के साथ टॉप परफोर्मिंग प्रखंड के रूप में चुना गया है। वही, मारगोमुंडा-7प्रतिशत, सोनारायठारी-8प्रतिशत और सरवां-8प्रतिशत के साथ बॉटम परफोर्मिंग प्रखंड के रूप में चिन्हित किया गया। वही बेहतर प्रदर्शन न करने वाले प्रखंड स्तर के विद्यालयों को चिन्हित कर उनके साथ एक विशेष रणनीति के तहत काम करने का सलाह दी गई। साथ ही प्रमोटेड बच्चों को विद्यालय चिन्हित कर एवं संकुलाधीन अन्य विद्यालयों के साथ समन्वय स्थापित करते हुए ऑनलाइन एडमिशन करना अनिवार्य रूप सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया।
ऑनलाइन कक्षा संचालन के संदर्भ में उपायुक्त के निर्देशों के आलोक में कहा गया कि स्कूल में बच्चों के प्रश्नों एवं अन्य शैक्षिक चुनौतियों के समाधान के लिए ज़ूम, गूगल मीट, जिओ मीट के माध्यम से ऑनलाइन कक्षा का संचालन करेंगे जिसका मोनिटरिंग राज्य द्वारा गूगल फॉर्म के माध्यम से किया जायेगा। साथ ही प्रधानाध्यापक शिक्षकों से बातचीत करके ऑनलाइन कक्षा संचालन हेतु डेली रुटीन बनायेंगे।
जो शिक्षक ऑनलाइन कक्षा का संचालन, व्हाट्सएप ग्रुप में बच्चों की अच्छी संख्या, नवाचारी प्रयास, नियमित पुष्टिकरण फॉर्म भरने जैसे पैमानों पर खड़े उतरेंगे, उन्हें जिला कार्यक्रम के द्वारा प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जायेगा। इसके अलावे अतिरिक्त जिला कार्यक्रम पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि शिक्षकों एवं प्रधानाध्यापकों के द्वारा पुष्टिकरण फॉर्म नही भरा जाना खेद का विषय है। अगर यही रवैया रहा तो ऐसे शिक्षकों को चिन्हित करते हुए कार्रवाई हेतु अनुशंषित किया जायेगा। जिला लेखा पदाधिकारी ने अग्रिम समायोजन प्रधानाध्यापकों के प्रश्नों का निराकरण करते हुए कहा कि विद्यालय समय पर अग्रिम समायोजित करे।
ऑनलाइन बैठक में प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी रमेश झा, सुनील कुमार वर्णवाल, संकुल साधन सेवी राजीव पांडे, अमरेन्द्र नाथ तिवारी एवं प्रधानाध्यापक सुभाष कुमार, राजेश कुमार झा, दीप नारायण झा, विनोद कुमार दास आदि मौजूद रहे

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: