May 11, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आलू-प्याज की कीमतों में कोई इजाफा नहीं, अफवाह से सचेत रहने की अपील

रांची:- आपदा की इस संकट में दवाईयों के आलू-प्याज के दामों
में बढ़ोतरी करने के लिए अफवाह फैलाई जा रही है। कहीं कहीं से
लगातार अफवाह फैलाई जा रही है कि बाजार में आलू-प्याज की किल्लत हो गई है। जिस कारण बाजार में आलू-प्याज सहित अन्य
सब्जियां नहीं मिलेगी। जब इस बात की जॉच की गई तो यह खबर झूठा और अफवाह निकली। राजधानी की सबसे बड़ी मंडी कृषि बाजार समिति पंडरा में आलू और प्याज की आवक सामान्य है। बाजार में आलू प्याज का भंडार पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध है और आम दिनों की तरह बिक्री हो रही है। थोक विक्रेता संघ के सचिव रोहित कुमार साह ने बताया कि बाजार समिति पंडरा में पहले प्रतिदिन 15 से 20 गाड़ी आलू की आवक होती थी। जबकि लाकडाउन के कारण अभी 6 से 7 गाड़ी ही माल की आवक है। इसी तरह प्याज पहले हर दिन 15 से 17 ट्रक तक मंडी में आता था। अभी आवक घटकर 5 से 7 ट्रक हो गया है। सचिव रोहित साह के कहा कि बाजार में ग्राहकों की कमी है। लोग कम खरीददारी के लिए आ रहे हैं। इसलिए थोक व्यापारी बाहर के राज्यों से आलू-प्याज कम मंगवा रहे हैं। आलू प्याज के दाम में विशेष वृद्धि नहीं हुई है। पूर्व में सफेद आलू बंगाल का 450 से 500 रुपये प्रति 50 केजी का बोरा मिलता था। और अच्छी क्वालिटी का ज्योति ब्रांड का आलू अभी 600 प्रति 50 केजी का बोरा है। इसी तरह प्याज के दाम में भी कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है। 1400 से 1500 प्रति क्विंटल प्याज का भाव पंडरा मंडी में है। क्योंकि अभी गर्मी का समय है। इस समय आलू और प्याज मौसम के हिसाब से बहुत जल्द खराब होता है। इसलिए थोक व्यापारी बाजार में मांग के अनुसार ही माल मंगवाते हैं। रोहित साह ने बताया कि बाजार में आलू प्याज की कमी नहीं होने दी जाएगी। लोग किसी तरह की अफरा-तफरी का माहौल ना बनाएं। लेकिन सब्जी के खुदरा बाजार में सफेद आलू 18 से लेकर 20 रूपए और लाल आलू 20 से 25 रूपए मिल रहा है। वहीं प्याज 25 से 30 रूपए प्रति किलो की दर पर खादगढ़ा सब्जी बाजार, लालपुर सब्जी बाजार, नागा बाबा खटाल सब्जी बाजार एवं शहर के अन्य सब्जी बाजारों में बिक रही है। खुदरा व्यापारियों का कहना है कि मंडी से माल उठाने के बाद एक बोरा आलू में 5 केजी सड़ा हुआ निकलता है। इसके अलावा ट्रांसपोर्टिंग खर्च है और खुदरा में 1 किलो, 2 किलो बेचने पर काफी नुकसान होता है। इसलिए खुदरा और थोक के दामों में काफी अंतर रहता है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: