आरा:- इंटरनेट के प्रसार और एंड्रॉयड स्मार्ट फोन के बढ़ते क्रेज के बीच सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्मों का दुरुपयोग करने वाले लोगों को पुलिस सायबर क्राइम एक्सपर्ट के माध्यम से जेल के शिकंजे तक पहुंचाने में सफल हो रही है।रोहतास जिले के नासरीगंज थाना क्षेत्र से सम्बद्ध एक महिला का फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर उसके आपत्तिजनक फोटो पोस्ट करने वाले एक व्यक्ति को सायबर सेल की मदद से रांची से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर रोहतास जिले की महिला का अश्लील और आपत्तिजनक फोटो पोस्ट करने और फोटो को लगातार वायरल कर उसे बदनाम करने की कोशिश में जुटे व्यक्ति का नाम रंजीत कुमार है और वह गया जिले के शेरघाटी थाना क्षेत्र के फतेहपुर गांव का निवासी है।
रोहतास के एसपी आशीष भारती ने शनिवार को बताया कि इस साल तीन जनवरी को पीड़ित महिला ने अपने नाम से फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर किसी के द्वारा उसका अश्लील और आपत्तिजनक फोटो पोस्ट करने, लगातार ऐसी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर वायरल किये जाने और उसे बदनाम करने की नासरीगंज थाने में शिकायत दर्ज कराई थी।पीड़ित महिला द्वारा दर्ज कराए गए शिकायत के बाद उन्होंने नासरीगंज थाना के थानाध्यक्ष और साइबर सेल की विशेष टीम का गठन कर टीम को कार्रवाई करने का आदेश दिया था।
नासरीगंज थाना और साइबर सेल की टीम ने टेक्नोलॉजी का सहारा लेते हुए जब तकनीकी आधार पर जांच शुरू की तो आरोपी के रांची इलाके में होने की जानकारी मिली।मोबाइल टावर लोकेशन के आधार पर विशेष टीम की पुलिस झारखण्ड की राजधानी रांची पहुंची जहां सुगदेवनगर थाना क्षेत्र के बाँसटोली से रंजीत नामक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया।रोहतास के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि रांची से गिरफ्तार कर रोहतास लाये गए आरोपी से कड़ाई से पूछ ताछ के दौरान उसने नासरीगंज की पीड़ित महिला का फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाकर उसका अश्लील और आपत्तिजनक फोटो पोस्ट करने और उसे लगातार वायरल करने की बात स्वीकार कर ली है।
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सायबर अपराध की शिकार कोई भी महिला सीधे अपनी शिकायत थानों में दर्ज करा सकती हैं।उनके शिकायत पर त्वरित कार्रवाई की जाएगी और आरोपी को जेल तक पहुंचाया जाएगा।

Leave a Reply

%d bloggers like this: