January 24, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सर्च अभियान के दौरान जमीन में छिपा कर रखे पुलिस से लूटे गये हथियार बरामद

दुमका:- झारखंड में दुमका के नक्सल प्रभावित शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र के मनियाचुंआ जंगल से जिला पुलिस और एसएसबी की संयुक्त टीम ने बुधवार को सर्च अभियान के दौरान जमीन के नीचे छिपा कर रखे गये पुलिस से पूर्व में लूटी गयी तीन राइफल ,70 जिन्दा गोली,सात मैगजीन चार्जर और एक मैगजीन बरामद किया है। दुमका के पुलिस अधीक्षक अंबर लकड़ा ने बुधवार को यहां आयोजित संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इस सर्च अभियान में एस एसबी 35 बटालियन के कमांडेन्ट एम के पांडेय, दुमका के अभियान के अपर पुलिस अधीक्षक रतीन्द्र चरण मिश्रा,एस एसबी के डीसी ललित साहा,नूर मुस्तफा अंसारी, पुलिस उपाधीक्षक विजय कुमार, पुलिस निरीक्षक सह शिकारीपाड़ा के थाना प्रभारी संजय सुमन,प्रशिक्षु जितेन्द्र सिंह के साथ जिला पुलिस और एसएसबी के जवान शामिल थे। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि जिले के नक्सल प्रभावित शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र में नक्सली गतिविधि से संबंधित गुप्त सूचना के आधार पर अपर पुलिस अधीक्षक अभियान, दुमका के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, एसएसबी के डिप्टी कमांडेंट ललित साहा के नेतृत्व में जिला पुलिस और एसएसबी 35 बटालियन की संयुक्त टीम द्वारा बुधवार की सुबह सघन रूप से सर्च अभियान चलाया गया। इसी क्रम में टीम ने नक्सल प्रभावित शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र के मनियांचुआं जंगल के आसपास सर्च अभियान के दौरान तीन रायफल(303), 70 जिन्दा गोली(303),सात चार्जर और एक मैगजीन बरामद किया। उन्होंने बताया कि जमीन के नीचे छिपा कर रखे गये हथियार पूर्व में पुलिस से लूटी गयी थी। पुलिस बरामद हथियार के संबंध में आवश्यक जांच पड़ताल कर रही है। उन्होंने बताया कि पुलिस निरीक्षक सह शिकारीपाड़ा के थाना प्रभारी संजय सुमन के बयान पर शिकारीपाड़ा थाना में विभिन्न धाराओं के तहत अज्ञात नक्सलियों के खिलाफ कांड संख्या 70/2020 दर्ज कर पुलिस मामले में विभिन्न विन्दुओं पर गहन तफ्तीश कर रही है। एस एस बी 35 बटालियन के कमांडेन्ट एम के पांडेय ने कहा कि इस सर्च अभियान में शामिल पुलिस पदाधिकारियों और जवानों ने बड़ी सफलता पायी है। ऐसा स्थानीय युवाओं या आम लोगों के जागरूक होने की वजह से सम्भव हो पाया है। उन्होंने कहा कि जनता विशेष कर युवा पीढ़ी को हर समय सजग और जागरूक रहने की जरूरत है जिससे समाज विरोधी असमाजिक तत्व युवाओं को दिशा हीन रास्ते पर भटकाने का प्रयास नहीं कर सकें। उन्होंने पुनः भटके हुए लोगों से समाज की मुख्य धारा में शामिल होकर विकास के सहभागी बनने में आगे आने की अपील की।

Recent Posts

%d bloggers like this: