अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

84 कांडों में वांछित दस लाख का इनामी पीएलएफआई नक्सली शनिचर सुरीन मुठभेड़ में ढेर

मुठभेड़ स्थल से एके 47, 2 रायफल, आईईडी, डेटोनेटर और 49 हजार नकर जब्त

रांची:- झारखंड में खूंटी और पश्चिमी सिंहभूम जिले की सीमा पर पुलिस मुठभेड़ में प्रतिबंधित नक्सली संगठन पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएलएफआई) का दस लाख का इनामी नक्सली जोनल कमांडर शनिचर सुरीन मारा गया। मुठभेड़ में ढेर नक्सली वर्दी में था।
डीजी अभियान संजय लाटकर ने शनिवार को रांची में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में बताया कि शुक्रवार देर रात तक दोनों ओर से करीब दो घंटे से अधिक समय तक चली मुठभेड़ के बाद शनिवार सुबह मुठभेड़ स्थल से एक शव बरामद किया गया। उन्होंने बताया गया है कि गुप्त सूचना के आधार पर रनिया और गुदड़ी के बीच स्थित जंगल में पुलिस और सीआरपीएफ बलों की ओर से सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया था। सुरक्षा बलों को देखकर पीएलएफआई नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में सुरक्षा बलों की ओर से भी गोलीमारी की गयी। इस गोलीबारी में 10लाख का इनामी नक्सली शनिवार सुरीन मारा गया। जबकि पीएलएफआई दस्ते के कई अन्य सदस्य घने जंगल का फायदा उठाते हुए भागने में सफल रहे। पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ गुदड़ी थाना क्षेत्र अंतर्गत पिडुंग बड़ा केसल जंगल में हुई।
डीजी अभियान ने बताया कि शनिवार सुरीन पश्चिमी सिंहभूम जिले में 50, खूंटी जिले में 32 और गुमला जिले में दर्ज 2 यानी कुल 84 कांडों में अभियुक्त था। उसके विरूद्ध हत्या, हत्या का प्रयास, डकैती, लूट, आगजनी, रंगदारी , पुलिस पार्टी पर हमला करने और अन्य नक्सली घटनाओं में शामिल होने का आरोप है। मुठभेड़ स्थल से एक एके-47 रायफल, 2 पिस्तौल, दो इंसास रायफल, भारी मात्रा में कारतूस, और 8 मोटरसाईकिल, 49हजार नकद, 4 आईडी, 6 डेटोनेटर, नक्सल वर्दी, पेन ड्राइव, मोबाइल, चार्ज, पिट्ठू, दवा, नक्सली साहित्य, रसीद और दैनिक उपभोगत की अन्य समेत अन्य सामग्री बरामद हुई है।
गौरतलब है कि दो दिन दो दिन पहले भी गुमला जिले में पुलिस मुठभेड़ में 15 लाख का इनामी माओवादी नक्सली बुद्धेश्वर उरांव मारा गया था और अब शनिचर सुरीन का मारा जाना पुलिस के लिए बड़ी उपलब्धि है। मारा गया नक्सली पीएलएफआई का जोनल कमांडर था और वह मूल रूप से गुमला जिले के कामडारा का रहने वाला था।

%d bloggers like this: