January 21, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

कांग्रेस के सहप्रभारी उमंग सिंघार का परमिशन कैंसिल, दिल्ली वापस लौटे

भाजपा ने 14 दिनों के लिए होम क्वारंटाइन में भेजने की थी मांग

राँची:- अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव सह झारखंड के पार्टी सह प्रभारी उमंग सिंघार चार दिवसीय दौरे पर रांची पहुंचे थे, लेकिन राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी की ओर से लॉकडाउन में उनके चार दिवसीय दौरे पर सवाल उठाये जाने के बाद स्थानीय प्रशासन ने उन्हें दी गयी अनुमति को रद्द कर दिया, जिसके बाद वे वापस दिल्ली लौट गये।
बीजेपी के प्रदेश महामंत्री सह राज्यसभा सांसद समीर उरांव ने उमंग सिंघार के झारखंड दौरे पर सवाल उठाते हुए कहा था कि एक तरफ बीजेपी विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी और राज्यसभा सदस्य के रूप में शपथ लेकर वापस लौटने पर प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष दीपक प्रकाश को 14 दिन के होम कोरेन्टीन का मुहर लगा दिया जाता है, जबकि प्रदेश कांग्रेस प्रभारी उमंग सिंघार दिल्ली से आकर रांची में कांग्रेस पार्टी के कार्यक्रम में लगातार शामिल हो रहे है। लेकिन सरकार के इशारे पर प्रशासन मौन बना हुआ है।
इधर, मध्य प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री उमंग सिंघार बुधवार को रांची पहुंचने के बाद आज गिरिडीह में पार्टी के कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे, वे धनबाद और बोकारो जिले के बेरमो भी जाने वाले थे, लेकिन इस बीच उन्हें यह जानकारी दी गयी कि स्थानीय प्रशासन ने उन्हें झारखंड दौरे की दी गयी अनुमति को रद्द कर दिया गया है। जिसके बाद वे गिरिडीह से ही वापस रांची लौट आये और देर रात सेवा विमान से वापस दिल्ली लौट गये।
इस बीच प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने कहा है कि सह प्रभारी उमंग सिंघार राज्य सरकार से मंजूरी प्राप्त करने के बाद झारखंड आये थे,, इसमें कहीं से भी लॉकडाउन को लेकर जारी दिशा-निर्देशों का उल्लंघन नहीं हुआ था, लेकिन जब उन्हें यह जानकारी मिली कि स्थानीय प्रशासन ने बीच में उन्हें दी गयी अनुमति को रद्द कर दिया गया है, तो उन्होंने वापस लौटने का फैसला लिया। उन्होंने कहा कि पार्टी के प्रदेश सह प्रभारी ने रांची आने से पहले राज्य सरकार से विशेष अनुमति प्राप्त की और इसी के आधार पर उन्हें एयरपोर्ट पर होम क्वारंटाइन का मुहर नहीं लगाया गया। इस संबंध में भाजपा के नेता आरटीआई के माध्यम से जानकारी भी हासिल कर सकते है।प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि लॉकडाउन को लेकर जारी दिशा-निर्देश के अनुसार तीन परिस्थितियों में लोगों को आने-जाने की अनुमति मिल सकते है, इसके तहत विधायिका से जुड़े लोगों, बिजनेस क्लास और स्पेशल अनुमति के तहत लोगों को लॉकडाउन में भी छूट दी जा सकती है, इसी आधार पर पार्टी के सह प्रभारी ने राज्य सरकार से अनुमति प्राप्त की थी।
प्रदेश कांग्रेस सह प्रभारी 7 अगस्त को रांची में पार्टी विधायकों के साथ बैठक करने वाले थे, जबकि वे 9 अगस्त को विश्व आदिवासी दिवस पर प्रदेश कांग्रेस की ओर से आयोजित होने वाले कार्यक्रम में भी मुख्य अतिथि के रूप में हिस्सा लेने वाले थे।

Recent Posts

%d bloggers like this: