April 13, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

ऐतिहासिक खुदाबख्श ओरियंटल लाइब्रेरी के हिस्से को तोड़ने का फैसला गलत : भाकपा-माले

पटना:- भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी-लेनिनवादी (भाकपा-माले) ने बिहार सरकार के ऐतिहासिक धरोहर खुदाबख्श ओरियंटल लाइब्रेरी के गार्डेन और कुछ हिस्सों के तोड़ने के फैसले को पूरी तरह से गलत एवं शिक्षा विरोधी बताया है।
भाकपा-माले के राज्य सचिव कुणाल ने पटना में कारगिल चौक से लेकर एनआइटी तक फ्लाई ओवर निर्माण के लिए बिहार सरकार द्वारा ऐतिहासिक धरोहर खुदाबख्श ओरियंटल लाइब्रेरी के गार्डेन तथा कुछ हिस्सों के तोड़ने के फैसले को पूरी तरह से गलत और शिक्षा विरोधी बताया। उन्होंने कहा कि बिहार के शैक्षणिक जगत में इस लाइब्रेरी का महत्वपूर्ण योगदान है, जिसकी न केवल राष्ट्रीय बल्कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति है।
श्री कुणाल ने कहा कि इतिहास को जानने-समझने का यह एक महत्वपूर्ण स्रोत है। इस लाइब्रेरी में महात्मा गांधी से लेकर कई राष्ट्रपति, राजनेता और विद्धान आ चुके हैं। यह ऐतिहासिक अध्ययनों का भी एक बड़ा केंद्र है। ऐसी स्थिति में इसकी एक इंच जमीन को भी नुकसान पहुंचाना पूरे शैक्षणिक जगत पर हमला है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और जनता दल यूनाइटेड (जदयू) की सरकार की ओर से शैक्षणिक-अकादमिक संस्थानों पर लगातार हमला किया जा रहा है। यह उसकी ही अगली कड़ी है।
राज्य सचिव ने कहा कि एक तरफ जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार विरासतों को बचाने का दंभ भरते हैं वहीं दूसरी ओर इस अति महत्वपूर्ण शैक्षणिक और हेरिटेज भवनों को तोड़ने में लगे हैं। उन्होंने कहा कि भला बिहार और पूरे देश का बुद्धिजीवी समुदाय इसकी इजाजत कैसे दे सकता है। श्री कुणाल ने कहा कि उनकी पार्टी सरकार से मांग करती है कि वह हेरिटेज घोषित किए गए भवनों से छेड़छाड़ और फ्लाई ओवर बनाने के नाम पर खुदाबख्श ओरियंट लाइब्रेरी को नुकसान पहुंचाना बंद करे। उन्होंने कहा कि भाकपा-माले बिहार के तमाम प्रबुद्धजनों और आम नागरिकों से इसके खिलाफ आगे आने की अपील करती है।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: