अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

नवरात्रि पर कंदाहा सूर्य मंदिर में सूर्य नमस्कार कार्यक्रम का आयोजन


सहरसा:- लक्ष्मीनाथ योगपीठ ट्रस्ट मुख्यालय साधना स्थल खजुरी, संस्थापक योग गुरु आचार्य प्रभाकर के तत्वावधान में कंदाहा सूर्य मंदिर में सोमवार को सूर्य नमस्कार कार्यक्रम आयोजित किया गया।
आचार्य प्रभाकर ने कहा कि शारदीय नवरात्र योगाभ्यास आरंभ करने लिए उत्तम मास माना गया है।ऋषि मुनि एवं योगीजन का मानना है योगाभ्यास किसी भी समय किसी भी महीना में कर सकते हैं। लेकिन शारदीय नवरात्र में किया गया योगाभ्यास संपूर्ण लाभकारी है। इस समय मौसम सामान्य रहता है जिससे साधक गन को योगाभ्यास करने में आसानी होती है। यहां दूर दूर से भक्त गण रविवार को आते हैं। भगवान सूर्य देव से अपने सुन्दर स्वास्थ्य की मन्नतें मांगते हैं। यह सूर्य मंदिर बहुत पूराना है। बुजूर्गो का मानना है कि जो भी भक्त श्रद्धा से सूर्य देव की आराधना करते हैं उनकी मनोकामना अवश्य ही पूर्ण होती है। खासकर चर्मरोगी वाले चमकी, मनोरोगी, तनावग्रस्त अन्यान्य रोगों का निवारण सूर्य देव की आराधना से होती है। भक्त विभिन्न तरीका से पूजा आराधना करते हैं कुछ तो सूर्य देव के पर्यायवाची शब्द से भी आराधना करते हैं रवि, दिनकर, भास्कर , दिवाकर, प्रभाकर आदि।
योग सभी के लिए आवश्यक है। खासकर सूर्य नमस्कार के बहुत फायदे हैं। प्रातः काल सूर्योदय के समय पूर्वाविमुख होकर सूर्य नमस्कार करने से अद्भुत तेज प्राप्त होता है, ऊर्जावान बनता है, याददाश्त बढने लगता है, बच्चे तथा युवक को अधिक लाभ मिलता है। सूर्य नमस्कार में 12 आसन होते हैं चक्र पूरा करने के लिए 12 आसनों को पुनः दोहराया जाता है।तब एक चक्र सूर्य नमस्कार संपन्न होता है।

%d bloggers like this: