April 17, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

विपक्षी सदस्यों ने विधानमंडल परिसर में अपनी अलग कार्यवाही शुरू की

पटना:- बिहार विधानसभा में हंगामे के बाद कल पुलिस बुलाए जाने से नाराज विपक्षी सदस्यों ने आज कार्यवाही में भाग न लेकर विधानमंडल परिसर में अपनी कार्यवाही शुरू कर दी। मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के विधायक भूदेव चौधरी को प्रतीकात्मक रूप से कार्यवाही को संचालित करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष के रूप में आसन की जिम्मेवारी सौंपी गई। परिसर में विपक्षी सदस्यों द्वारा बुलाई गई बैठक अपने आप में अनोखी थी। यहां आसन की कुर्सी पर जहां विपक्ष के सदस्य को बैठाया गया वहीं सरकार की ओर से कोई भी मौजूद नहीं रहा। यह पहली बार हुआ कि विधायकों के साथ मीडियाकर्मियों ने भी इस कार्रवाई में भाग लिया। इस दौरान प्रतीकात्मक अध्यक्ष बने श्री चौधरी ने कल की हुई घटना की निंदा करते हुए इसे देश के लिए काला दिन बताया। उन्होंने कहा कि जिस तरह से एक महिला विधायक के कपड़े फाड़े गए और उन्हें घसीट कर बाहर निकाला गया वह राज्य सरकार की हिटलरशाही को दर्शाता है। विपक्षी सदस्यों की प्रतीकात्मक कार्रवाई के दौरान कल की घटना के लिए विशेष रूप से पटना के जिलाधिकारी और अपर पुलिस अधीक्षक के खिलाफ भी प्रस्ताव पारित किया गया। इन दोनों अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त करने का सर्वसम्मत प्रस्ताव भी पारित हुआ।
विपक्षी सदस्यों ने इसका हाथ उठाकर समर्थन भी किया। विपक्षी सदस्यों ने विरोध स्वरूप काला पट्टा भी लगा रखा था। विपक्षी सदस्यों ने आरोप लगाया कि सरकार उनकी आवाज को दबाना चाहती है। सदन में यदि विपक्ष की आवाज की अहमियत नहीं तो फिर ऐसे में सदन के अंदर जाकर क्या होगा।
विपक्षी सदस्य यह मांग कर रहे हैं कि कल विधायकों को लात घूंसे से पीटने वाले पुलिसकर्मियों और अधिकारियों पर कार्रवाई की जाए। राजद और कांग्रेस के साथ-साथ वामदलों के विधायक भी सदन की कार्यवाही का बहिष्कार कर विधानमंडल परिसर में समानांतर सदन चला रहे हैं।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: