अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

आरबीआई के माध्यम से झारखंड सरकार के खाते से राशि काटे जाने पर दर्ज करायी गयी आपत्ति


केंद्र और राज्य के बीच समन्वय बनाने को लेकर नीति आयोग के साथ बैठक
रांची:- केंद्र और राज्य के बीच समन्वय बनाने को लेकर नीति आयोग की टीम ने आज मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के साथ बैठक की। इस बैठक में वित्तमंत्री डॉ0 रामेश्वर उरांव, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
झारखंड मंत्रालय में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल और सीनियर एडवाइजर नीरज सिन्हा ने अपनी टीम के साथ आपसी समन्वय और विकासक े मुद्दे पर चर्चा की। नीति आयोग की टीम में डॉ. वीके पॉल, वरीय सलाहकार नीरज सिन्हा, संयुक्त सचिव शैलेंद्र कुमार द्विवेदी, उप सलाहकार थैयागाराजू बीएम, वरीय सहायक नमन अग्रवाल और युवा प्रोफेशनल सिद्धे जी शिंदे शामिल थे।
र्नीति आयोग की टीम के साथ बैठक में राज्य को एक करोड़ कोविड वैक्सीन की डोज उपलब्ध कराने और निजी अस्पतालों का कोटा 25 प्रतिशत से कम करने की मांग राज्य सरकार की ओर से की गई है। इस बैठक में नीति आयोग को राज्य सरकार की ओर से पूर्व में भेजे गए 1 दर्जन से अधिक विवादित विषयों पर चर्चा हुई। इन मुद्दों में सबसे महत्वपूर्ण है डीवीसी के बकाया कटौती से संबंधित विवाद। राज्य सरकार ने पूर्व में डीवीसी के बकाया कटौती पर हुए त्रिपक्षीय समझौते से एकतरफा पीछे हटने का निर्णय लिया था। इसे केंद्र द्वारा नहीं माने जाने पर चर्चा की गई। बार-बार विकास योजनाओं की राशि की राशि सीधे रिजर्व बैंक से काट लिए जाने पर भी राज्य सरकार आपत्ति जताई। इसके अलावा सीसीएल और बीसीसीएल समेत तमाम कोल कंपनियों पर राज्य सरकार ने डेढ़ लाख करोड़ बकाया होने का दावा किया है। यह राशि विभिन्न परियोजनाओं के लिए भू अधिग्रहण के एवज में राज्य सरकार को मिलनी है। जीएसटी कटौती के मद में राज्य सरकार को लगभग 15 सौ करोड़ रुपये मिलने हैं। यह राशि केंद्र से किस्तों में मिल रही है। राज्य सरकार स्वर्णरेखा परियोजना और धनबाद तथा रामगढ़ में सीवरेज प्लांट के लिए भी राशि की मांग कर रही है। बैठक में राज्य में लगभग एक साल से प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत नई इकाइयां स्वीकृत नहीं हो रही हैं। इससे राज्य के हिस्से में आवास योजनाएं नहीं मिल पा रहीं हैं। इस पर भी चर्चा हुई। बैठक में महिला बाल विकास मंत्रालय से झारखंड के लिए पूरक पोषाहार के लिए मंजूर 312 करोड़ रुपये जारी कराने, नमामि गंगे योजना का झारखंड में विस्तार, प्रधानमंत्री आवास योजना और प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना पर चर्चा की गई। बैठक के अन्य बिंदुओं में धनबाद और रामगढ़ में सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, जीएसटी कंपनसेशन, स्वर्णरेखा प्रोजेक्ट के लिए 200 करोड़ रुपये, 631 करोड़ की पलामू सिंचाई परियोजना में केन्द्रीय मदद बढ़ाने और उत्तरी कोयला योजना में इंटेक वेल बनाने की स्वीकृति पर भी चर्चा की गई।

%d bloggers like this: