अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

6 माह से आंगनबाड़ी केंद्रों को पोषाहार की आपूर्ति ठप्प- आइफा


रांची:- कुपोषण के शिकार बच्चों को पोषाहार दिया जाना सुनिश्चित किए जाने के लिए सरकार ने जोर-शोर से पहले पोषण सप्ताह और बाद मे पोषण माह मनाए जाने का ऐलान किया है लेकिन विडंबना है कि राज्य के आंगनबाड़ी केंद्रों को पिछले 6 माह से पोषाहार की आपूर्ति बंद है और बच्चों को पोषाहार नहीं मिल रहा है. बच्चों को पोषाहार देने वाली पोषण सखियों को भी पिछले 7 से माह से मानदेय का भूगतान नहीं किया गया है.इसके अलावा एकीकृत बाल विकास योजना के पदाधिकारी इन्हें पोषण ट्रेकर एप डाउनलोड करने का दबाव देकर अपने कर्तब्यों को पूरा किए जाने का काम मान रहें है. यह बात आज रांची मे आयोजित झारखंड राज्य आंगनबाड़ी सेविका सहायिका और पोषण सखी संघ (सीटू) की दो दिवसीय बैठक को संबोधित करते हुए आल इंडिया फेडरेशन आफ आंगनबाड़ी वर्कर्स एंड हैल्पर (आइफा) की महासचिव सुश्री सिंधु ने कही. बैठक मे 9 जिलों से आयी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और पोषण सखियों ने हिस्सा लिया. बैठक मे इस बात पर चिंता व्यक्त की गयी कि संताल परगना के गोड्डा जिला अंतर्गत आदिवासी बहुल गोड्डा सदर, बोआरीजोर और सुंदर पहाड़ी प्रखंड मे जिला समाज कल्याण विभाग द्वारा ग्राम सभा से चुनी गयी आंगनबाड़ी सेविका व सहायिका को चयन मुक्त किए जाने की प्रक्रिया चलायी जा रही है जो कि पुरी तरह गैर कानूनी है.
उसी प्रकार कोडरमा जिले मे बाल विकास परियोजना पदाधिकारी द्वारा मनमाने तरीके से उत्कृष्ट कार्य करने का प्रशस्ति पत्र पाने वाली सेविका पूर्णिमा राय को चयन मुक्त कर उन्हें प्रताड़ित किए जाने का काम किया जा रहा है. संघ इस तरह की मनमानी को बर्दाश्त नहीं करेगा. इस संबंध मे शीघ्र ही संघ का एक शिष्टमंडल विभागीय मंत्री श्रीमती जोबा मांझी से मुलाकात कर उन्हें ज्ञापन सौपेगा.
बैठक मे परियोजना कर्मियों की 24 सितंबर को होने वाली संयुक्त देशव्यापी हड़ताल को झारखंड मे सफल बनाने का निर्णय लिया गया. बैठक की अध्यक्षता संघ की अध्यक्ष मीरा देवी ने की. बैठक मे संघ की महासचिव सावित्री सोरेन ने संघ की गतिविधियों की रिपोर्ट पेश की ।

%d bloggers like this: