January 17, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

ब्रिस्बेन में सीरीज जीत के साथ नंबर वन रैंकिंग रहेगी दांव पर

ब्रिस्बेन:- भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चार टेस्टों की बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के लिए निर्णायक जंग शुक्रवार से ब्रिस्बेन के मैदान पर शुरू होने जा रही है जिसमें सीरीज जीत के साथ-साथ आईसीसी की नंबर वन टेस्ट रैंकिंग दांव पर रहेगी।
भारत और ऑस्ट्रेलिया 1-1 की बराबरी के साथ चौथे टेस्ट में प्रवेश करने जा रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया ने एडिलेड में पहला टेस्ट आठ विकेट से जीता था जबकि भारत ने मेलबोर्न में दूसरा टेस्ट आठ विकेट से जीतकर सीरीज में बराबरी हासिल की। सिडनी में तीसरा टेस्ट ड्रा समाप्त हुआ और अब सीरीज का फैसला ब्रिस्बेन में चौथे और निर्णायक टेस्ट से होगा। यदि भारत ब्रिस्बेन टेस्ट को जीतता है या ड्रा खेलता है तो वह बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी अपने पास बरकरार रखेगा क्योंकि भारत ने 2018-19 में ऑस्ट्रेलिया से पिछली सीरीज 2-1 से जीती थी।
यदि ऑस्ट्रेलिया सीरीज जीतता है तो वह आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में फिर से नंबर एक पोजीशन पर पहुंच जाएगा। यदि भारत ने चौथा टेस्ट जीता या सीरीज 1-1 से बराबर रही तो न्यूज़ीलैंड नंबर एक बना रहेगा। मौजूदा रैंकिंग में न्यूज़ीलैंड 118 अंकों के साथ पहले, ऑस्ट्रेलिया 116 अंकों के साथ दूसरे और भारत 114 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर है।
भारत इस टेस्ट से पहले अपने चोटिल खिलाड़ियों की समस्या से जूझ रहा है और उसने ब्रिस्बेन टेस्ट के लिए अपनी अंतिम एकादश घोषित नहीं की है जबकि ऑस्ट्रेलिया ने अपनी अंतिम एकादश घोषित कर दी है और टीम में एक परिवर्तन किया है। मार्कस हैरिस को चोटिल विल पुकोवस्की की जगह टीम में शामिल किया है। पुकोवस्की कंधे की चोट के कारण इस टेस्ट से बाहर हो गए हैं। भारत को यदि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज जीतनी है तो उसे ब्रिस्बेन मैदान में अपना इतिहास बदलना होगा। इस मैदान पर भारत कभी टेस्ट मैच नहीं जीत पाया है। ब्रिस्बेन का मैदान ऑस्ट्रेलिया का अजेय किला माना जाता है जहां उसने पिछले 33 वर्षों में कभी हार का सामना नहीं किया है और वह इस मैदान पर भारत से कभी नहीं हारा है। ऑस्ट्रेलिया ने ब्रिस्बेन में पिछले सात टेस्ट लगातार जीते हैं।
ऑस्ट्रेलिया को ब्रिस्बेन में आखिरी बार हार नवम्बर 1988 में मिली थी जब उसे वेस्ट इंडीज ने नौ विकेट से हराया था। भारत ने ब्रिस्बेन में छह टेस्ट खेले हैं जिसमें पांच में उसे हार मिली है और 2003 में खेला गया टेस्ट ड्रा रहा था।
भारत इस सीरीज के पहले तीन टेस्टों में मैच की पूर्वसंध्या तक अपनी एकादश घोषित करता आया था लेकिन चौथे टेस्ट की पूर्वसंध्या तक उसने अपनी एकादश घोषित नहीं की है। भारत मैच की सुबह तक अपने खिलाड़ियों की फिटनेस पर आखिरी रिपोर्ट का इन्तजार करेगा और उसके बाद वह अपनी एकादश घोषित करेगा।
भारत को अपनी एकादश में रवींद्र जडेजा और हनुमा विहारी के विकल्प ढूंढने होंगे। दोनों इस मैच से बाहर हो गए हैं। जडेजा के बाएं हाथ का अंगूठा टूट गया है जबकि हनुमा को हैमस्ट्रिंग चोट है। टीम के शीर्ष तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह की फिटनेस को लेकर भी स्थिति स्पष्ट नहीं है। उनके पेट में खिंचाव है।
यदि बुमराह फिट नहीं होते हैं तो शार्दुल ठाकुर या टी नटराजन में से किसी एक को चुना जा सकता है। ठाकुर ने भारत के लिए एकमात्र टेस्ट 2018 में खेला था जबकि बाएं हाथ के तेज गेंदबाज नटराजन को अभी अपना टेस्ट पदार्पण करना है।
अगर स्पिन विभाग को देखा जाए तो जडेजा बाहर हो चुके हैं, अश्विन को पसलियों में चोट है और टीम के पास चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव बचते हैं। कुलदीप ने इस दौरे में अब तक कोई टेस्ट नहीं खेला है। यदि अश्विन फिट हो जाते हैं तो भारत आश्विन और कुलदीप दोनों के साथ खेल सकता है।
हनुमा विहारी के बाहर हो जाने के बाद भारत अपने दोनों विकेटकीपर ऋषभ पंत और रिद्धिमान साहा को इस मुकाबले में उतार सकता है जिसमें पंत विशेषज्ञ बल्लेबाज के तौर पर उतर सकते हैं और साहा विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभाल सकते हैं। भारत यदि पंत को विकेटकीपर के तौर पर उतारता है तो वह मयंक अग्रवाल को हनुमा की जगह उतार सकता है।
ब्रिस्बेन के गाबा की पिच अपनी तेजी और उछाल के लिए जानी जाती है लेकिन इस सत्र में कोई क्रिकेट नहीं होने के कारण पिच को लेकर अभी कुछ स्पष्ट नहीं कहा जा सकता कि यह कैसा व्यवहार करेगी। इस मैच के लिए मौसम की भविष्यवाणी के अनुसार पहले दिन मौसम साफ़ रहेगा जबकि शनिवार को दूसरे दिन तेज हवाएं चलेंगी और शेष तीन दिन बारिश होने की आशंका है।
भारतीय बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ ने मैच की पूर्वसंध्या पर कहा कि भारतीय टीम ब्रिस्बेन की तेजी और उछाल के लिए तैयार है। उन्होंने कहा कि टीम ने यहां काफी अभ्यास किया है। भारतीय खिलाड़ी लगातार अच्छा खेल रहे हैं और उम्मीद है कि ब्रिस्बेन की तेजी और उछाल में भी वह शानदार प्रदर्शन करेंगे और भारत सीरीज जीतने में कामयाब रहेगा। सिडनी के तीसरे टेस्ट में अपने व्यवहार को लेकर आलोचना झेलने वाले ऑस्ट्रेलिया के कप्तान टिम पेन ने ब्रिस्बेन के दर्शकों से भारतीय खिलाड़ियों का सम्मान करने की अपील की है और साथ ही कहा है कि वह अब किसी को आलोचना करने का कोई मौका नहीं देंगे। टीम इस मैच और सीरीज को जीतकर फिर से नंबर वन बनने के लिए तैयार है।
ऑस्ट्रेलियाई ऑफ स्पिनर नाथन लियोन के करियर का यह सबसे बड़ा मैच है और इसके साथ ही वह अपने 100 टेस्ट मैच पूरे करेंगे। लियोन को 400 टेस्ट विकेट पूरे करने के लिए चार विकेट की जरूरत है और वह इस कीर्तिमान को भी हासिल करना चाहेंगे।

Recent Posts

%d bloggers like this: