May 9, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

नीलाम्बर पीताम्बर के जीवन पर शोध करने की आवश्यकता : कुलपति

मेदिनीनागर:- नीलांबर पीतांबर विश्वविद्यालय के तत्वावधान में रविवार को आयोजित वेबीनार को संबोधित करते हुए कार्यक्रम के मुख्य वक्ता डॉ रमेश चंचल ने कहा कि क्रांतिकारी नीलाम्बर पीताम्बर के जीवन और उनकी कृति को प्रमाणिकता के साथ इतिहास लेखन नहीं किया गया है। उनके द्वारा 1857 के विद्रोह के नेतृत्व एवं संचालन पर और अधिक शोध की आवश्यकता है। उन्होंने कई पुस्तकों और दस्तावेजों का हवाला देते हुए यह बातें कहीं। प्रति कुलपति प्रोफेसर डॉक्टर दीप नारायण यादव ने कहा की डाल्टेनगंज शहर का नाम जो अत्याचारी कमिश्नर डाल्टन जिसने नीलाम्बर-पीताम्बर को फांसी दे दी अब बदलने की आवश्यकता है। इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ अवध किशोर पांडे ने कहा कि नीलाम्बर पीताम्बर ने सशक्त जन आंदोलन खड़ा करके अंग्रेज हुकूमत के दांत खट्टे कर दिए उनका संघर्ष लंबे समय तक चला और गुरिल्ला युद्ध की रणनीति में वह निपुण थे इससे पहले वेबीनार में उपस्थित प्रतिभागियों का स्वागत विश्वविद्यालय की अधिष्ठाता छात्र कल्याण डॉक्टर मोहनी गुप्ता ने किया उन्होंने नीलांबर पीतांबर के प्रति भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। कार्यक्रम का संचालन प्रॉक्टर डॉक्टर केसी झा ने किया। इतिहास विभाग के प्राध्यापक डॉ राजेंद्र सिंह ने कौशल उनकी राजनीतिक सूझबूझ एवं संगठन की क्षमता पर प्रकाश डाला। नीलांबर पीतांबर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर प्रोफेसर राम लखन सिंह ने कहा कि नीलाम्बर पीताम्बर के जीवन पर और अधिक शोध करने की आवश्यकता है, जिसकी वे पहल करेंगे। इस वर्ष होने वाले आजादी के अमृत महोत्सव में विश्वविद्यालय द्वारा उनके जीवन पर कई विचार गोष्ठी भी आयोजित की जाएंगी।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: