मैड्रिड:- स्पेन के राफेल नडाल और सर्बियाई टेनिस स्टार नोवाक जोकोविच ने 27 जून से शुरू हो रहे विंबलडन टेनिस टूर्नामेंट में रूस और बेलारूस के खिलाड़ियों पर प्रतिबंध के फैसले पर नाराजगी व्यक्त की है। इन दोनो ही टेनिस खिलाड़ियों का कहना है कि यूक्रेन पर रुसी आक्रमण के कारण इन दोनो देशों के खिलाड़ियों को प्रवेश से रोकना सही नहीं है। नडाल ने कहा, ‘यह रुसी टेनिस साथियों के साथ ज्यादती है। रुस के आक्रमण में खिलाड़ियों का कोई दोष नहीं है।’ उन्होंने कहा, ‘मुझे उनके लिए दुख है। विंबलडन ने स्वयं ही अपना फैसला लिया। सरकार ने उन्हें ऐसा करने के लिए नहीं कहा था। अब देखना है कि खिलाड़ियों का इस मामले में क्या रुख रहता है। ‘
वहीं नडाल और जोकोविच के अलावा एटीपी और डब्ल्यूटीए टेनिस टूर ने भी रुसी और बेलारुसी खिलाड़ियों पर रोके के फैसले की निंदा की है। विंबलडन के इस प्रतिबंध के कारण रुस के स्टार खिलाड़ी दानिल मेदवेदेव, आंद्रे रुबलेव और अनास्तासिया पावलुचेनकोवा इस टूर्नामेंट में नहीं खेल पायेंगे। ये सभी खिलाड़ी रूस के हैं। इनके अलावा बेलारूस की विक्टोरिया अजारेंका भी विंबलडन में भाग नहीं ले पाएगी। बेलारूस के खिलाड़ियों को इसलिए प्रतिबंधित किया गया है क्योंकि वह रुस के साथ यूक्रेन पर हमले में शामिल है।
जोकोविच ने इन खिलाड़ियों की स्थिति की तुलना जनवरी में उस स्थिति से की जब वह कोविड-19 टीकाकारण नहीं होने के कारण उन्हें ऑस्ट्रेलियाई ओपन से बाहर कर दिया गया था।

Leave a Reply

%d bloggers like this: