June 17, 2021

अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

सांसद संजय सेठ ने रूपा की मौत पर उठाए सवाल,कहा- जब पुलिस की नौकरी कर रही बेटी सुरक्षित नहीं तो कौन है सुरक्षित?

रांची:- साहिबगंज में महिला थाना प्रभारी दारोगा रूपा तिर्की की संदेहास्पद मौत पर रांची के सांसद संजय सेठ ने गहरी नाराजगी जताई है और प्रशासनिक व्यवस्था पर भी कई सवाल उठाए हैं। श्री सेठ ने कहा कि रूपा तिर्की रांची की बेटी थी, कई सपने लेकर वह यहां से साहिबगंज गई थी। एक सामान्य परिवार से निकलकर दरोगा की नौकरी करना और वहां खुद को साबित करना। अपने काम के प्रति, अपने सेवा भाव से सबका दिल जीतना, यह काम रूपा तिर्की ने बखूबी किया था। रूपा तिर्की के जानने वाले भी इस घटना से बहुत मर्माहत हैं। श्री सेठ ने कहा कि जिन परिस्थितियों में रूपा तिर्की की आत्महत्या की बात कही जा रही है, वह गले से उतरने वाली नहीं है। जिस तरह की तस्वीरें सामने आ रही है, जिस तरह की बातें सामने आ रही है, उसमें इस बात पर कहीं से भी विश्वास नहीं होता कि यह मामला आत्महत्या से जुड़ा हुआ है। इस मामले में अविलम्ब रूपा के परिजनों से बात करना चाहिए। रूपा के फोन कॉल के डिटेल से निकाले जाना चाहिए। रूपा के वे सारे कलीग जो उसके आसपास थे, उनके साथ नौकरी करते थे, उन सब से कड़ी पूछताछ होनी चाहिए और फिर इस दिशा में आगे जांच होनी चाहिए। पूरे मामले को गौर से देखने पर पता चलता है कि यह मामला संदेहास्पद है और रूपा की मौत आत्महत्या वाली मौत नहीं है बल्कि यह संदेह के घेरे वाली मौत है। रूपा की मां और उसके परिजन भी रूपा की मौत को हत्या बता रहे हैं। सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं। उनके परिजनों से भी सरकार को बात करनी चाहिए और उनकी मांगों पर सरकार को अपनी सहमति देनी चाहिए। इस प्रकरण में जितने लोगों का नाम भी सामने आया है, उन सब पर कार्रवाई करते हुए कड़ी पूछताछ होनी चाहिए। श्री सेठ ने कहा कि घटना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। इस राज्य में पुलिस की नौकरी कर रही महिला दारोगा भी सुरक्षित नहीं है तो आखिर सुरक्षित कौन है? श्री सेठ ने मुख्यमंत्री से मांग की है कि इस मामले को सीबीआई को सौंपा जाए और सीबीआई के द्वारा इसकी निष्पक्ष जांच हो ताकि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिल सके। यदि राज्य सरकार और प्रशासन इस मामले में थोड़ी भी संवेदनशील है तो बिना देर किए इस मामले में सीबीआई को सौंप देना चाहिए। श्री सेठ ने कहा कि उनके परिजनों के साथ वह हमेशा खड़े हैं। हर परिस्थिति में वह हमेशा उनके परिजनों को न्याय दिलाने का काम करेंगे और इसके लिए जहां भी जरूरत पड़े वह हमेशा खड़े रहेंगे। इस घटना पर श्री सेठ ने राज्य की प्रशासनिक व्यवस्था पर भी सवाल उठाए हैं। कहा है कि मुख्यमंत्री के क्षेत्र में ऐसी घटनाएं होती हैं, जो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। यह घटना एक बार फिर से बता रही है कि राज्य की बहन बेटियां बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं हैं।

Recent Posts

Social Media Auto Publish Powered By : XYZScripts.com
%d bloggers like this: