अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

20हजार से अधिक विधवा और 15 हजार से ज्यादा दिव्यांगजनों को नहीं मिल पा रहा पेंशन


रांची:- झारखंड में 20 हजार से अधिक विधवा और 15 हजार से ज्यादा दिव्यांगजनों को सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत पेंशन नहीं मिल पा रहा है। आजसू पार्टी के डॉ0 लंबोदर महतो के एक अल्पसूचित प्रश्न के उत्तर में महिला एवं बाल विकास मंत्री जोबा मांझी ने यह जानकारी दी।
महिला एवं बाल विकास मंत्री जोबा मांझी ने आजसू पार्टी विधायक लंबोदर महतो के प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि राज्य में 60 वर्ष से कम तथा 18 वर्ष से ज्यादा उम्र की 20 हजार से ज्यादा विधाएं ऐसी हैं, जिन्हें केंद्र या राज्य सरकार से सामाजिक सुरक्षा योजना के तहत पेंशन नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि पूरे राज्य में 60 वर्ष से कम और 6वर्ष से अधिक उम्र के 15 हजार से ज्यादा दिव्यांगजन भी पेंशन से वंचित है।
जोबा मांझी ने बताया कि विभाग की ओर से सामाजिक सुरक्षा सहायता कार्यक्रम के तहत संचालित केंद्र प्रायोजित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन योजना के तहत वर्तमान में 2 लाख 69हजार 368 और राज्य संचालित मुख्यमंत्री राज्य विधवा सम्मान पेंशन योजना के तहत 1 लाख 83 हजार 601 अर्थात कुल 4 लाख 52 हजार 969 लाभुकों को पेंशन का लाभ दिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि केंद्र प्रायोजित इंदिरा गांधी राष्ट्रीय दिव्यांग पेंशन योजना अंतर्गत वर्तमान में 26 हजार 762 और राज्य संचालित स्वामी विवेकानंद निःशक्त स्वाबलंबन प्रोत्साहन योजना अंतर्गत 1 लाख 60 हजार 288 लाभुकों को पेंशन का लाभ दिया जा रहा है।
उन्होंने बताया कि केंद्र प्रायोजित उक्त योजनाओं के अधीन लाभुकों की संख्या निर्धारित है, जिसका अनुपालन अनिवार्य है और इसके तहत ही लाभुकों को चिह्नित कर लाभ पहुंचाने की बाध्यता है। उन्होंने बताया कि राज्य के सभी विधवाओं तथा दिव्यांगजनों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने के निहित उद्देश्य से पेंशन प्रदान करने के लिए राज्य सरकार तत्पर है और इस निमित अपने सीमित राज्य संसाधनों से अधिकारिक लाभुकों का इन सामाजिक सुरक्षा पेंशन योजनाओं के तहत आच्छादन करने के प्रयासरत है।

%d bloggers like this: