अनावरण न्यूज़

एक नयी सुबह का

गोवा मुक्ति सेनानियों के स्मरण में आयोजित राष्ट्रीय विचार मंथन में विशिष्ट अतिथि होंगे मंत्री बन्ना गुप्ता


गोवा के राज्यपाल करेंगे दो दिवसीय राष्ट्रीय विचार मंथन का उदघाटन
गोवा के मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष भी होंगे शामिल
बन्ना गुप्ता करेंगे स्मारिका का विमोचन
रांची:- गोवा क्रांति दिवस की 75वीं एवं गोवा मुक्ति की 60वें वर्ष के ऐतिहासिक अवसर एवं गोवा मुक्ति सेनानियों के स्मरण में डॉ. राम मनोहर लोहिया रिसर्च फाउंडेशन, नई दिल्ली द्वारा गोवा में आयोजित होने वाली दो दिवसीय राष्ट्रीय विचार मंथन में झारखंड के स्वास्थ्य एवं आपदा प्रबंधन मंत्री बन्ना गुप्ता विशिष्ट अतिथि के रूप में आमंत्रित किए गए हैं। इस कार्यक्रम का उद्घाटन गोवा के राज्यपाल पी एस श्रीधरन पिल्लई के कर कमलों द्वारा होगा और इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद रावत एवं प्रतिपक्ष के नेता दिगंबर कामत एवं झारखंड के स्वास्थ्य एवं आपदा प्रबंधन मंत्री विशिष्ट अतिथि के तौर पर शिरकत करेंगे।
उल्लेखनीय है यह कार्यक्रम गोवा के क्रांति भूमि मडगांव स्थित रविंद्र भवन में आगामी 27 एवं 28 नवंबर को आयोजित किया जा रहा है।
यह जानकारी फाउंडेशन के अध्यक्ष अभिषेक रंजन सिंह के मार्फत से कमल किशोर अग्रवाल ने दी.
इस सम्मेलन में गोवा मुक्ति संघर्ष पर डॉ. राममनोहर लोहिया की 1947 में लिखी पुस्तक “एक्शन इन गोवा” का अंग्रेजी, हिंदी, कोंकणी, मराठी एवं बांग्ला भाषाओं के संस्करणों का लोकार्पण किया जाएगा।
उल्लेखनीय है कि प्रख्यात समाजवादी विचारक लोहिया जी लिखित यह पुस्तक मूल रूप से अंग्रेजी में है. जिसे 75 वर्षों बाद डॉ. राममनोहर लोहिया रिसर्च फाउंडेशन द्वारा चार भारतीय भाषाओं में अनूदित कर प्रकाशित किया गया है. इसके अलावा डॉ. राममनोहर लोहिया रिसर्च फाउंडेशन द्वारा
रेवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी के संस्थापक त्रिदिब चौधुरी का जेल संस्मरण मूल रूप से बांग्ला में -“सालाजारेर जेले उन्नीस मास” को भी हिंदी, कोंकणी एवं अंग्रेजी भाषाओं में अनूदित कर एवं प्रकाशित किया गया है। जिसका भी लोकार्पण किया जायेगा।
इस दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन में गोवा मुक्ति संघर्ष में शामिल रहे सेनानियों को जीवित व मरणोपरांत डॉ. राममनोहर लोहिया स्मृति सम्मान भी प्रदान किए जाएंगे. इस अवसर पर डॉ. राममनोहर लोहिया रिसर्च फाउंडेशन, नई दिल्ली द्वारा एक स्मारिका भी प्रकाशित की गई है़, जिसका विमोचन दिनांक 28 नवंबर को उद्घाटन सत्र में झारखंड सरकार के स्वास्थ्य एवं आपदा प्रबंधन मंत्री बन्ना गुप्ता द्वारा किया जाएगा.
इस दो दिवसीय सम्मेलन में कई विषयों पर चर्चा सत्र आयोजित किए गए हैं- गोवा की मुक्ति में महिलाओं की भूमिका, डॉ. लोहिया और भारतीय भाषाएँ, डॉ. लोहिया और नागरिक स्वतंत्रता, गोवा के स्वतंत्रता आंदोलन में ईसाईयों की भूमिका, समाजवादी नेता डॉ. लोहिया की दृष्टि- कल, आज और कल आदि।
ज्ञातव्य है कि डॉ. राममनोहर लोहिया को समाजवाद का आधुनिक प्रवर्तक माना जाता है। उनकी स्मृति में आयोजित राष्ट्रीय स्तर के आयोजन में मंत्री बन्ना गुप्ता को बुलाया जाना यह झारखंड एवं जमशेदपुरवासियों के लिए गर्व का विषय है़. ज्ञात हो कि बन्ना गुप्ता प्रारम्भिक काल से ही लोहिया की विचारधारा से प्रभावित रहे हैं एवं अपने उदबोधन में वे अक्सर लोहिया का जिक्र करते हैं।

%d bloggers like this: